18 फ़रवरी 2021

.... बदलाव :)

सभी साथियों को नमस्कार कुछ दिनों से व्यस्ताएं बहुत बढ़ गई है इन्ही कारणों से ब्लॉग को समय नहीं दे पा रहा हूँ पर....आज आप सभी के समक्ष पुन: उपस्थित हूँ अपनी नई रचना उम्मीद है आपको पसंद आये.........!!

घर से दफ्तर के लिए
निकलते समय रोज छूट
जाता है 
मेरा लांच बॉक्स और साथ ही
रह जाती है मेरी घड़ी
ये रोज होता हो मेरे साथ 
और
मुझे लौटना पड़ता है उस गली के
मोड़ से
कई वर्षो से ये आदत नहीं बदल पाया मैं
पर अब तक मैं यह नहीं
समझ पाया
जो कुछ वर्षो से नहीं हो पाया
वह कुछ महीनो में कैसे हो पायेगा
अखबार के माध्यम से की गई
तमाम घोषणाएं
समय बम की तरह लगती है
जो अगर नहीं पूरी हो पाई
तो एक बड़े धमाके के साथ
बिखर जायेगा सबकुछ......!!


- संजय भास्कर

28 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना।

Kamini Sinha ने कहा…

काफी दिनों बाद आपकी उपस्थिति पाकर बेहद ख़ुशी हुई,
एक सुंदर रचना के साथ वापसी का स्वागत है संजय जी

कविता रावत ने कहा…

जिन्हें कोई लत पड़ जाय वे फिर बदल नहीं पाते हैं अपने आपको क्योंकि आदतें बदली जा सकती हैं, लेकिन लत नहीं
बहुत अच्छी प्रस्तुति

Meena Bhardwaj ने कहा…

बहुत समय के बाद आपकी रचना पढ़ने को मिली । चिंतन भरा
संदेश देती सुन्दर रचना ।

Jigyasa Singh ने कहा…

सुन्दर, सारगर्भित संदेश पूर्ण रचना..

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

आदरणीय/ प्रिय,
कृपया निम्नलिखित लिंक का अवलोकन करने का कष्ट करें। मेरे आलेख में आपका संदर्भ भी शामिल है-
मेरी पुस्तक ‘‘औरत तीन तस्वीरें’’ में मेरे ब्लाॅगर साथी | डाॅ शरद सिंह
सादर,
- डॉ (सुश्री) शरद सिंह

शिवम् कुमार पाण्डेय ने कहा…

वाह।

Virendra Singh ने कहा…

बहुत बढ़िया संजय जी। आपको बधाई।

Amrita Tanmay ने कहा…

क्या खूब कहा ।

Jyoti Dehliwal ने कहा…

बहुत बढ़िया अभिव्यक्ति।

मन जैसा कुछ ने कहा…

बहुत खूब..

Madhulika Patel ने कहा…

बहुत बढ़िया रचना संजय जी ।

जितेन्द्र माथुर ने कहा…

आपकी बात समझी मैंने संजय जी - वो जो आपने कही और वो भी जो आपने नहीं कही ।

Manisha Goswami ने कहा…

Nice👏👏👏👏

Manisha Goswami ने कहा…

Please visit my blog and share your opinion🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

Tarun ने कहा…

आदरणीय संजय भास्करजी !
लय ताल मे सिमटी जिंदगी के अबूझ डर को संजोती अनूठी रचना के लिए साधुवाद !

ज्योति सिंह ने कहा…

बेहतरीन रचना , जीवन की सच्चाई भी है ये ,आदत बदलना थोड़ा मुश्किल ही होता है, वापसी बहुत अच्छी हुई , बधाई हो संजय, शुभ प्रभात

MANOJ KAYAL ने कहा…

बहुत सुंदर।

जयकृष्ण राय तुषार ने कहा…

बहुत ही अच्छी कविता।यथार्थ से रूबरू।हार्दिक आभार और शुभकामनाएं

Anita ने कहा…

जो वर्षों से नहीं हुआ वह यदि कोई चाहे तो पल में हो सकता है, महीनों की बात क्या है, असली बात है क्या हम बदलाव चाहते हैं !

अरविंद ने कहा…

बहुत खूब! सुंदर कविता!

Anjana Dayal de Prewitt (Gudia) ने कहा…

Deep!

Surendra shukla" Bhramar"5 ने कहा…

बहुत सुन्दर भाव लिए और यथार्थ से परिचय कराती फिर एक अच्छी रचना संजय भाई

विकास नैनवाल 'अंजान' ने कहा…

बहुत सुन्दर....

आलोक सिन्हा ने कहा…

बहुत बहुत सुन्दर सराहनीय रचना

NovoQuotes ने कहा…

A good informative post that you have shared and thankful your work for sharing the information. I appreciate your efforts. this is a really awesome and i hope in future you will share information like this with us. Please read mine as well. leave me alone quotes

Satta King | Sattaking ने कहा…

This is good example of content writing, you have done good job, and I am expecting more Good content writing from you. I have also something to share here. satta king has turned into a real brand to win more cash in only a brief span. Subsequently, individuals are so inquisitive to think about the procedure of the game. Here we have brought a few procedures that will help you in understanding the best approach to gain cash by the sattaking. Also find the fastest satta king result & chart online at Online Sattaking

Guru Satta King ने कहा…

It's great to be here with everyone, I have a lot of knowledge from what you share, to say thanks, the information and knowledge here helps me a lot.

Read More:-

Satta king

Sattaking

Satta king