06 जून 2018

माँ के हाथों की बनी रोटियां :)

( चित्र गूगल से साभार  )

रोजगार की तलाश में 
घर से बहुत दूर बसे लोग 
ऊब जाते है जब 
खाकर होटलो का बना खाना 
तब अक्सर ढूंढते है माँ के हाथों की बनी रोटियां 
पर नहीं मिलती 
लाख चाहने पर भी वो रोटियां 
क्योंकि कुछ समय बाद 
याद आता है की घर तो छोड़ आये 
इन्ही रोटियों के लिए  !!

- संजय भास्कर   

19 मई 2018

देश सबका है :)

                                                               ( चित्र गूगल से साभार  )

बीज बो गए विषमता के 
आज यहाँ सापों की खेती उग आई है
क्यारी को फिर से सँवारो
बीज नए डालो प्यार के हमदर्दी के,
मेड़ें मत बाँधो
लकीर मत बनाओ अपनों के 
बीच में 
मत करो देशका विभाजन 
जातिवाद और धरम के नाम पर 
क्योकि धरती सबकी है 
देश सबका है !!

- संजय भास्कर   

28 अप्रैल 2018

ऐसी है वो मजदूर औरत :)

( चित्र गूगल से साभार  )

सड़क के किनारे पर बैठी 
वह मजदूर औरत 
जिसे मैं जब भी देखता हूँ 
हमेशा ही उसे पत्थरों
जो के बीच घिरा पाता हूँ 
जो सुबह से शाम तक 
चिलचिलाती धुप में हर दिन 
तोड़ती है पत्थर 
दोपहर हो या शाम 
उसके हाथों की गति नहीं रूकती 
फटे पुराने कपड़ो में लिपटी 
पूरे जोश के साथ लगी रहती है 
अपने काम पर 
काम ही तो उसका कर्म है 
जिसे सहारे वह पेट पालती है अपने परिवार का 
सारा दिन काम कर 
जब उसे उसकी मेहनत का फल मिलता है 
अजीब से मुस्कान होती है चेहरे पर 
ऐसी है वो मजदूर औरत !!

- संजय भास्कर