18 जून 2020

फ्लाईओवर शहरों के लोगों की लाइफ लाइन :(


फ्लाईओवर पर कविता लिखना 
आसान नही है
फ्लाईओवर पर कविता लिखने से पहले
शहर के लोगो के विचार जान लेना 
जरूरी है 
जो हर रोज या अक्सर फ्लाईओवर
के ऊपर से गुजरते है
क्योंकि वही लोग बात सकते है 
शहर मे फ्लाईओवर होने के फायदे 
वो फ्लाईओवर ही है 
जो शहर के बड़े वाहनो की भीड़ से 
बचाता है 
और लोगो का सफर आसान बनाता है
फ्लाईओवर बनाये ही जाते है 
कई वर्षो तक शहर को 
भारी भीड़ से बचाने के लिए 
और वर्षों तक लोगो का बोझ उठाने के लिए 
वरना साधारण आदमी की तो उम्र बीत 
जाती है 
फ्लाईओवर् का महत्व जानने मे !!

- संजय भास्कर

16 टिप्‍पणियां:

Jyoti Singh ने कहा…

जो शहर के बड़े वाहनो की भीड़ से
बचाता है
और लोगो का सफर आसान बनाता है
फ्लाईओवर बनाये ही जाते है
कई वर्षो तक शहर को
भारी भीड़ से बचाने के लिए
और वर्षों तक लोगो का बोझ उठाने के लिए
वरना साधारण आदमी की तो उम्र बीत
जाती है
फ्लाईओवर् का महत्व जानने मे !
बिल्कुल सही कहा ,बढ़िया पोस्ट संजय

Meena Bhardwaj ने कहा…

वो फ्लाईओवर ही है
जो शहर के बड़े वाहनो की भीड़ से
बचाता है
और लोगो का सफर आसान बनाता है
फ्लाईओवर बनाये ही जाते है
कई वर्षो तक शहर को
भारी भीड़ से बचाने के लिए ...
सही कहा आपने...शहरों के लोगों के लाइफ लाइन हैं फ्लाईओवर । दिन भर की दौड़ धूप में समय बचाते हैं फ्लाईओवर बहुत अच्छी पोस्ट ।

राजा कुमारेन्द्र सिंह सेंगर ने कहा…

ज़िन्दगी बन जाती है फ्लाईओवर

दिगम्बर नासवा ने कहा…

वाह्य क्या बात है ...
फ़्लाई ओवर के मंडे नुक़सान वही जानता है जो उपयोग करता है ... जहाँ कई बार तो पूरी उम्र खर्च हो जाती है ...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

नये विषय पर सुन्दर रचना।

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

फ़्लाईओवर के आर-पार जानेवाला ही उसका संपूर्णता से अनुभव कर सकता है शेष जन,दर्शक रह जाते हैं केवल - नितान्त सत्य कथन है आपका .

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

फ्लाई को अच्छा परिभाषित किया।

Sarita sail ने कहा…

बढ़िया प्रस्तुति

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

आम आदमी फ़्लाइओवर के नीचे से पाँव पाँव चलता है न। विचारपूर्ण कविता।

एक नई सोच ने कहा…

संजय जी,

आप मेरे ब्लॉग एक नई सोच पर आए, आपका स्वागत और अभिनंदन, खैर आप बहुत खूब लिखते है, फ्लाईओवर .... सच ... यही तो है .... जो कई दशकों से शहरों का भार ढो रहे है .... और हम है कि .... हम सबकी तो उम्र ही बीत गई ..... इनकी महत्वता को जानने में .... बहुत खूब .....

मेरे ब्लॉग पेज पर सभी का स्वागत है ....
http://eeknaisoch.blogspot.com

hindiguru ने कहा…

बढ़िया पोस्ट संजय
वो फ्लाईओवर ही है
जो शहर के बड़े वाहनो की भीड़ से
बचाता है

Navin Bhardwaj ने कहा…

वाह क्या सुंदर लिखावट है सुंदर मैं अभी इस ब्लॉग को Bookmark कर रहा हूँ ,ताकि आगे भी आपकी कविता पढता रहूँ ,धन्यवाद आपका !!
Appsguruji (आप सभी के लिए बेहतरीन आर्टिकल संग्रह) Navin Bhardwaj

विमल कुमार शुक्ल 'विमल' ने कहा…

कभी खड़े होकर शहर को देखिये फ्लाईओवर से शहर सिर्फ भीड़ नजर आता है।

VenuS "ज़ोया" ने कहा…

फ्लोवर भी आज प्रसन्न हुआ होगा , की मुझपर किसी ने रचना लिखी , मेरे बारे में सोचा , मेरे महत्व को समझा बहुत अच्छी रचना

Swarajya karun ने कहा…

वाह ! कविता , वह भी फ्लाई ओवर पर ! ओव्हर ब्रिज पर से गुजरने वाले हजारों लोगों की भावनाओं को शब्द देने के लिए हार्दिक बधाई ।

संध्या शर्मा ने कहा…

वाह ... हमने भी एक फ्लाई ओवर को तिनका-तिनका बनते फिर टूटते और उसकी जगह विशाल फ्लाई ओवर बनते देखा है ... ख़याल अपने से