01 अप्रैल 2021

.......वो आकर्षण :)

 


कॉलेज को छोड़े करीब 

नौ साल बीत गये !
मगर आज उसे जब नौ साल बाद 
देखा तो 
देखता ही रह गया !
वो आकर्षण जिसे देख मैं 
हमेशा उसकी और
खिचा चला जाता था !
आज वो पहले से भी ज्यादा 
खूबसूरत लग रही थी 
पर मुझे विश्वास नहीं 
हो रहा था !
की वो मुझे देखते ही 
पहचान लेगी !
पर आज कई सालो बाद 
उसे देखना 
बेहद आत्मीय और 
आकर्षण लगा 
मेरी आत्मा के सबसे करीब .....!!

-- संजय भास्कर  

24 टिप्‍पणियां:

रेणु ने कहा…

बहुत भावपूर्ण प्रिय संजय | मन जिससे प्रगाढ़ता से जुड़ा हो उसे देखने की आकांक्षा बहुधा भीतर समाई रहती है -- ये फलीभूत हो जाए तो उस एहसास को शब्दों में बयां करना मुश्किल हो जाता है | मन के भावों की सहज अभिव्यक्ति जो सादगी से कही गयी है | हार्दिक शुभकामनाएं|

Jigyasa Singh ने कहा…

मन के किसी कोने में दबे सुंदर और कोमल अहसास,बहुत दिनों बाद साकार दिखें तो निश्चित ही मन रोमांचित हो जाता है,सुंदर शब्द चित्र प्रस्तुत करती नायाब रचना।

विकास नैनवाल 'अंजान' ने कहा…

कुछ आकर्षण कभी कम नहीं होते....

अनीता सैनी ने कहा…

जी नमस्ते ,
आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (०३-०४-२०२१) को ' खून में है गिरोह हो जाना ' (चर्चा अंक-४०२५) पर भी होगी।

आप भी सादर आमंत्रित है।

--
अनीता सैनी

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

बीती यादों का सुन्दर चित्रण।

आलोक सिन्हा ने कहा…

बहुत बहुत सुन्दर सराहनीय शब्द चित्र । शुभ कामनाएं ।

Meena Bhardwaj ने कहा…

आत्मीयता से बंधा आकर्षण सदैव स्थायी ही होता है । अति सुन्दर भावाभिव्यक्ति ।

जितेन्द्र माथुर ने कहा…

हां संजय जी, जो जज़्बात आपने उकेरे हैं, उन्हें समझा जा सकता है ।

Virendra Singh ने कहा…

वाकई संजय जी..कॉलेज वाली बात ही कुछ और होती है। सुंदर अभिव्यक्ति!

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

उम्दा अभिव्यक्ति

मन की वीणा ने कहा…

एहसासों की अभिव्यक्ति।
सुंदर सुघड़।

Bharti Das ने कहा…

बहुत बढियां , एहसासों का आकर्षण सदा ही सुन्दर होता है

पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा ने कहा…

बेहद सुन्दर .....
शब्दों में भावनाओं को व्यक्त कर पाना असंभव सा है।

Dr Varsha Singh ने कहा…

बहुत ख़ूबसूरत कविता..।

Admin ने कहा…

आप की पोस्ट बहुत अच्छी है आप अपनी रचना यहाँ भी प्राकाशित कर सकते हैं, व महान रचनाकरो की प्रसिद्ध रचना पढ सकते हैं।

शिवम् कुमार पाण्डेय ने कहा…

बहुत सुंदर।

Sarita Sail ने कहा…

सुंदर

Simran Sharma ने कहा…

वा!!! मी महाराष्ट्रातून आहे. आपला मराठी ब्लॉग पहिल्यांदाच पाहिला. कविता खूप आवडली.

Instagram marathi status
vishwas marathi status
dadagiri status in Marthi
wedding anniversary wishes in marathi
motivational quotes in marathi

Rohitas Ghorela ने कहा…

कभी कभी लगता है कि प्रेम; आकर्षण से मजबूत नहीं होता...ठीक खंगुरे और नींव की तरह.
बहुत सुंदर रचना.

मैंने ऐसे विषय पर; जो आज की जरूरत है एक नया ब्लॉग बनाया है. कृपया आप एक बार जरुर आयें. ब्लॉग का लिंक यहाँ साँझा कर रहा हूँ- नया ब्लॉग नई रचना

अनंत यात्री ने कहा…

सुंदर रचना ❤️

Kailash meena ने कहा…

बहुत ही सुंदर तरह से प्रस्तुत किया आपने। sachi bate

Unknown ने कहा…

उम्मीद करते हैं आप अच्छे होंगे

हमारी नयी पोर्टल Pub Dials में आपका स्वागत हैं
आप इसमें अपनी प्रोफाइल बना के अपनी कविता , कहानी प्रकाशित कर सकते हैं, फ्रेंड बना सकते हैं, एक दूसरे की पोस्ट पे कमेंट भी कर सकते हैं,
Create your profile now : Pub Dials

Ankur Jain ने कहा…

कॉलेज की यादें भुलाए न भूली जाती। सुंदर अभिव्यक्ति।

Rahul ने कहा…

What an Article Sir! I am impressed with your content. I wish to be like you. After your article, I have installed Grammarly in my Chrome Browser and it is very nice.
unique manufacturing business ideas in india
New business ideas in rajasthan in hindi
blog seo
business ideas
hindi tech