03 मई 2010

फ्री की 'नींबूज'



आज हमारे ऑफिस में बंटी फ्री की 'नींबूज'
स्वाद इसका गजब का, जैसे असली नींबूज
जिसने भी पी वाह! वाह! ही की
जब देखा, कुछ और ही थी अंदर की बात
इसके एक्सपायर होने में बचे थे दिन पांच
देखो यारो, क्या जमाना आया
प्रोमोशन के लिए क्या दिमाग लड़ाया |

41 टिप्‍पणियां:

Urmi ने कहा…

बहुत बढ़िया लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! उम्दा प्रस्तुती!

SANSKRITJAGAT ने कहा…

सच में एक बार तो मुह में पानी ही आ गया । पर एक्‍सपायर डेट देख कर हिम्‍मत नहीं पडी पीने की।।

M VERMA ने कहा…

भाई यूँ कोई प्रमोशन होता है, आमंत्रित करके चखाईये तो ------

Mahfooz Ali ने कहा…

भाई यूँ कोई प्रमोशन होता है, आमंत्रित करके चखाईये तो ------

कडुवासच ने कहा…

...बहुत सुन्दर ... लाजवाब !!!

अजय कुमार झा ने कहा…

हा हा हा तो ये राज था फ़्री निंबूज़ का । चलिए प्रमोशन के बाद एक्सपायरी डेट वाली भी मिलेगी बताईयेगा कैसी लगी ।

Arshad Ali ने कहा…

maine bhi pikar dekha maza aaya.

kshama ने कहा…

He bhagwaan!

अनाम ने कहा…

वाह वाह !!! क्या रचना है और क्या रचना की तारीफ करने वाले???????? कुछ ढंग का लिखों भैया।

Unknown ने कहा…

बेहद अच्छा तरीका है.. एक बार एपी हमने भी पी थी, खुले दिल..खुले आसमाँ के तले...

चन्द्र कुमार सोनी ने कहा…

वैसे एक बात नहीं बताई आपने.
आपने उसे ऐक्शपायरी निम्बूज देने पर प्रमोशन किया या डिमोशन??????
धन्यवाद.
WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

हर्षिता ने कहा…

बहुत सुन्दर।

Randhir Singh Suman ने कहा…

nice

Unknown ने कहा…

अरे भईए आज के जमाने में तो लोगों को फ्री का माल एसे मुंह लगा है कि अगर उन्‍हें एक्‍सपायरी डेट की भी दे देते तो वो भी वो हजम कर जाते, वैसे बहुत बेहतर प्रस्‍तुती, कीप इट अप संजय बाबू

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

संक्षिप्त लेकिन उम्दा व्यंग !

अनाम ने कहा…

hmmm...
achhi rachna..
jyada kuch nahi likh paunga ..
majboori aap jaante hi hain....

परमजीत सिहँ बाली ने कहा…

बिल्कुल सही उपयोग किया है......बढिया प्रस्तुति।

Roshani ने कहा…

:)

ajeet ने कहा…

बहुत बेहतर प्रस्‍तुती...

माधव( Madhav) ने कहा…

सुन्दर और प्रेरक!

Unknown ने कहा…

कड़वी सच्चाई बहुत अच्छे तरीके से पेश की आपने

गिरीश बिल्लोरे मुकुल ने कहा…

अरे बाप रे
मैं तो समझा था नुस्खा बता रहें गर्मी से बचाव का
मज़ेदार लगी पोस्ट खूब खूब बधाईयां

गिरीश बिल्लोरे मुकुल ने कहा…

पहली बार आया बेहद आनंदित हूं

Asha Joglekar ने कहा…

Free Nimbuz wah, par buiness to isee ko kehate hain. Any way fikana hee hai kyun na pomotion ho jaye ...aam ke aam guthliyon ke dam.

संजय @ मो सम कौन... ने कहा…

हा हा हा, मजा आ गया संजय भाई।

वैसे हमारा एक और हमनाम मित्र भी है और वो छांटकर ऐसा सामान खरीदता है किसकी एक्स्पायरी डेट निकल गई हो। बार्गेनिंग अच्छी हो जाती है न। पूछो तो कहता है कि इसपर best before लिखा है, ये थोड़ा ही लिखा है कि खराब हो जायेगी। बेस्ट नहीं तो बैटर या गुड जो भी है चलेगा, रेट कम होना चाहिये बस्स।
अच्छा लगा।
आभार।

Unknown ने कहा…

उम्दा व्यंग !

Dr.Ajit ने कहा…

संजय भाई आज आपके ब्लाग पर आना हुआ,आप तो एक लोकप्रिय ब्लागर है यह आपकी पोस्ट पर आयी हुई टिप्पणियों से पता चला। आप इस नाचीज़ की लिखी चीजो को पंसद करते हैं,इसके लिए धन्यवाद।

होती रही होंगी मुलाकातें...

डा.अजीत

www.shesh-fir.blogspot.com

राम त्यागी ने कहा…

mast !! :)

स्वप्निल तिवारी ने कहा…

hahahahhhhhaha..sahi hai dost

Dr. Zakir Ali Rajnish ने कहा…

सत्य वचन।

कमलेश वर्मा 'कमलेश'🌹 ने कहा…

वाह ..संजय.मान गये.तुम्हारी मारंकेटिगं को..इतनी प्रसंसा ..बधाई ी

Yogi ने कहा…

ha ha ha...

5 din to bache the na...

Enjoy asli nimboozz...

Unknown ने कहा…

........अच्छा तरीका है..

संजय भास्‍कर ने कहा…

ब्लॉग को पढने और सराह कर उत्साहवर्धन के लिए शुक्रिया.

संजय भास्‍कर ने कहा…

aap sbhi ka bahut -bahut shukriya aapne mera hoshla badhaya aur asha karta hoon aage bhi hosla badhate rahenge


Dhanyawaad,,,,,,,,

Sanjay bhaskar

Tapashwani Kumar Anand ने कहा…

Bahut khub kaha...

ज्योति सिंह ने कहा…

kya baat hai ?sundar

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बहुत ही अच्छी प्रमोशन है .... संजय जी नमस्कार ...

आदित्य आफ़ताब "इश्क़" aditya aaftab 'ishq' ने कहा…

संजय जी अपने बेनामी बॉस ने लगता हैं एक्सपायर नीबूज़ पी लिया .................

Unknown ने कहा…

बिल्कुल सही उपयोग किया है......

Nisha ने कहा…

achcha vayangya hai.. padhte hi halki si hansi aa gyi.