07 मार्च 2018

.....शादी की सालगिरह और तुम :)

नमस्कार दोस्तो कैसे हैं आप सब? उम्मीद है, स्वस्थ-प्रसन्न होंगे सभी मित्रो को मेरा प्यार भरा नमस्कार शब्दों से यूँ ही मुस्कुराहट बाँटने की कोशिश में कल कुछ पीछे छूट गया कल मेरी शादी की सालगिरह थी हमेशा ही आप सभी का स्नेह और आशीर्वाद मुझे मिलता रहा है आज फिर इस अवसर पर आप सभी का प्रेम और आशीर्वाद चाहिए आज ब्लॉग पर वापसी एक पुरानी कविता के साथ जो शादी से पहले की है उम्मीद है पसंद आये ....!!
आज के ही दिन हम हुए थे एक कुछ खट्टी मीठी यादें 
ढेर सारा प्यार लगता है 
कल की ही बात है स्वर्ग में तय होते हैं रिश्ते 
सुना है ऐसा सब कहते हैं,
( चित्र:- प्रीती भास्कर और मैं )

तेरे लायक नहीं,जानता हूँ मैं 
जो कभी नही हुआ
वो आज हो गया
जो मेरे पास था
वो दिल खो गया
तुम जानती हो या पता नहीं
पर जो खोया है मैंने
वो है तेरे पास कहीं
मिल जाये तो लौटा देना
तेरे लायक नहीं वो
जानता हूँ मैं 
ले लूँगा, समझाकर रख लूँगा पास अपने ही !!


- संजय भास्कर

9 टिप्‍पणियां:

Dilbag Virk ने कहा…

आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 08.03.2018 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2903 में दिया जाएगा

धन्यवाद

sweta sinha ने कहा…

बहुत प्यारी जोड़ी है आपकी...ईश्वर की असीम अनुकंपा और शुभाशीष सदैव आप दोनों पर बरसती रहे यही कामना है दिल से। अशेष अनंत शुभकामनाएँ मेरी स्वीकार करे।
बहुत प्यारी सी रचना है संजय जी।

Meena Bhardwaj ने कहा…

Wish you a very happy marriage anniversary. God bless you both!!!! :-)
Beautiful Poem.

Kavita Rawat ने कहा…

सदा आपस में मिलजुल कर रहना
शादी की वर्षगांठ पर हार्दिक शुभकामनायें!

शुभा ने कहा…

वाह!!संजय जी ,बहुत खूबसूरत रचना। आपको शादी की सालगिरह की हार्दिक बधाई । ईश््र का आशीर्वाद सदा आप दोनों पर बना रहे ।

Arun Roy ने कहा…

बहुत बहुत शुभकामना और कविता अच्छी है.

Digamber Naswa ने कहा…

शादी की साल गिरह मुबारक संजय जी ...
खुश रहे ... प्रेम में रहे ...

Digvijay Agrawal ने कहा…

आप और आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द के हजारवें विशेषांक की ओर में" रविवार 08 एप्रिल 2018 को लिंक की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

रेणु ने कहा…

प्रिय संजय ---- आज मन आह्लादित है आपकी सुंदर राधा - कृष्ण सरीखी जोड़ी को देखकर | भगवान् आपकी जोड़ी को बूरी नजर से बचाए | आपके प्रेम गीत अमर और जोड़ी अटल हो | सस्नेह ---