12 जनवरी 2011

किस बात का गुनाहगार हूँ मैं....संजय भास्कर


किस बात का गुनाहगार हूँ मैं,
खुशिया भरता हूँ  सबकी जिंदगी में ,
टूटे दिलो को दुआ देता हूँ ,
दुश्मन का भी भला करता हूँ |
क्या इसी बात का गुनाहगार हूँ ,
मेरी जिंदगी में कांटे डाले सबने
मैंने फूलों की बहार दे डाली
बचाता हूँ दोस्तों को हर इलज़ाम से
कहीं दोस्त बदनाम न हो जाये
मेरे लिए यही जिंदगी का दस्तूर है |
क्या इसीलिए मैं गुनाहगार हूँ ,
साथ निभाता हूँ सभी अपनों का
जिंदगी की हर राह पर
क्या यही है कसूर मेरा ,
हाँ हाँ .......यही है कसूर मेरा
जो अपने दिल के गमो को छुपाता रहा हूँ मैं
ज़माने को हसाता रहा हूँ मैं,
और तन्हाई में आंसू  बहाता  रहा हूँ मैं 
' भास्कर ' पूछता है क्या यही जिंदगी का दस्तूर है
कोई बता दे कसूर मे
किस बात का.................... गुनाहगार हूँ  मैं  !
चित्र :- ( गूगल से साभार  )
 

..................... संजय कुमार भास्कर

111 टिप्‍पणियां:

कडुवासच ने कहा…

अपने दिल के गमो को छुपाता रहा हूँ मैं
ज़माने को हसाता रहा हूँ मैं,
और तन्हाई में आंसू बहाता रहा हूँ मैं
' भास्कर ' पूछता है क्या यही जिंदगी का दस्तूर है
... bahut khoob ... behatreen ... dhamaakedaar !!

Rahul Singh ने कहा…

किसने कहा आपको गुनहगार और आपने मान भी या.

फ़िरदौस ख़ान ने कहा…

क्या इसीलिए मैं गुनाहगार हूँ ,
साथ निभाता हूँ सभी अपनों का
जिंदगी की हर राह पर
क्या यही है कसूर मेरा ,
हाँ हाँ .......यही है कसूर मेरा
जो अपने दिल के गमो को छुपाता रहा हूँ मैं
ज़माने को हसाता रहा हूँ मैं,
और तन्हाई में आंसू बहाता रहा हूँ मैं
' भास्कर ' पूछता है क्या यही जिंदगी का दस्तूर है
कोई बता दे कसूर मे
किस बात का.................... गुनाहगार हूँ मैं !



बेहतरीन प्रस्तुति...

Satish Saxena ने कहा…

हाँ भाई यहाँ तो यही गुनाह है ....हम तो तुम्हें शुभकामनायें ही दे सकते हैं!

मुकेश कुमार सिन्हा ने कहा…

bahut bada gunah kar rahe ho bloggers ke Sachin tendulkar....:)

jinagi me khushi failane ka kaam, ye to bahut hi badi galti hai...:D

kya baat hai...chha gaye guru..

nilesh mathur ने कहा…

वाह! क्या बात है!

babanpandey ने कहा…

कभी पढ़ा था ...नेकी कर दरिया में डाल//
आपने क्या सोचा ...

Mrityunjay Kumar Rai ने कहा…

sundar

सदा ने कहा…

साथ निभाता हूँ सभी अपनों का
जिंदगी की हर राह पर ....

बहुत ही सुन्‍दर भावमय करते हुये शब्‍द ...

बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये बधाई ।

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

आपकी कविता में गहराई आ रही है संजय जी.. सुन्दर कविता..

Arvind Jangid ने कहा…

अत्यंत गंभीर भाव लिए सुन्दर रचना.....वैसे लगता नहीं की आपने कोई गुनाह किया है......साधुवाद.

तिलक राज कपूर ने कहा…

अरे भाई, क्‍या हो गया, इतनी सी उम्र में ऐसा क्‍या हो गया।
दर्द उठता है तो उठने दे, बयॉं मत करना
इसका अहसास ज़माने पे अयॉं मत करना।

Dr. Zakir Ali Rajnish ने कहा…

संजय भाई, आपका अंदाजे बयां दिल को छूने वाला है। बधाई।

---------
सांपों को दुध पिलाना पुण्‍य का काम है?

Deepak Saini ने कहा…

संजय भाई
जो दुसरो को अमृत बाँटता है अंत मे उसके लिए विष ही बचता है।

संजय कुमार चौरसिया ने कहा…

अपने दिल के गमो को छुपाता रहा हूँ मैं
ज़माने को हसाता रहा हूँ मैं,
और तन्हाई में आंसू बहाता रहा हूँ मैं
' भास्कर ' पूछता है क्या यही जिंदगी का दस्तूर है

sundar panktiyan

Deepak Saini ने कहा…

आपको गुनाहगार किसने कह दिया ?

Deepak Saini ने कहा…

सुन्दर रचना, बधाई

कविता रावत ने कहा…

जो अपने दिल के गमो को छुपाता रहा हूँ मैं
ज़माने को हसाता रहा हूँ मैं,
और तन्हाई में आंसू बहाता रहा हूँ मैं
' भास्कर ' पूछता है क्या यही जिंदगी का दस्तूर है
कोई बता दे कसूर मे
किस बात का.................... गुनाहगार हूँ मैं !
......दुःख से ही तो आदमी दुनियादारी अछि तरह समझ पाता है! ऐसा सबको एक न एक दिन अनुभव होता ही है.
बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति ....

Suman ने कहा…

bahut sunder bhav hai.

Asha Lata Saxena ने कहा…

किसी की मदद गुनाह हो ही नहीं सकती |बहुत भावनात्मक रचना |बहुत बहुत बधाई |अब स्वास्थ्य कैसा है |
आशा

mark rai ने कहा…

मेरी जिंदगी में कांटे डाले सबने
मैंने फूलों की बहार दे डाली ....
काफी सकारात्मक सोच ली हुई कविता ....धन्यवाद

पी.सी.गोदियाल "परचेत" ने कहा…

जो अपने दिल के गमो को छुपाता रहा हूँ मैं
ज़माने को हसाता रहा हूँ मैं,
और तन्हाई में आंसू बहाता रहा हूँ मैं
' भास्कर ' पूछता है क्या यही जिंदगी का दस्तूर है
कोई बता दे कसूर मे
किस बात का.................... गुनाहगार हूँ मैं !

Ishi bat ke to gunahgaar ho !

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

गुनाहगार तो वो हैं जिनसे औरों की अच्छाई सहन नहीं होती है।

डॉ टी एस दराल ने कहा…

कर भला , हो भला । फिर कैसा गुनाह !

Sushil Bakliwal ने कहा…

Nice.

Kailash Sharma ने कहा…

हाँ हाँ .......यही है कसूर मेरा
जो अपने दिल के गमो को छुपाता रहा हूँ मैं
ज़माने को हसाता रहा हूँ मैं,
और तन्हाई में आंसू बहाता रहा हूँ मैं

बहुत सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति..

Unknown ने कहा…

बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति ....

Unknown ने कहा…

बहुत दिनों बाद इतनी बढ़िया कविता पड़ने को मिली.... गजब का लिखा है

Udan Tashtari ने कहा…

बेहतरीन रचना!

Kunwar Kusumesh ने कहा…

मेरी शुभकामनायें हैं.चिंता न करें.

केवल राम ने कहा…

जिंदगी की हर राह पर
क्या यही है कसूर मेरा ,
हाँ हाँ .......यही है कसूर मेरा
जो अपने दिल के गमो को छुपाता रहा हूँ मैं
ज़माने को हसाता रहा हूँ मैं,
भाई आपने सच कह दिया ..जिन्दगी में शायद कोई ही ऐसा व्यक्ति हो जिसने किसी को खुशियाँ देनी चाही हों और उसे गम न मिलें हों ...पर फिर भी खुशियाँ देने वालों के हौंसले कभी पस्त नहीं होते ..आपकी भावनाएं बहुत उत्तम है ..बनाये रखें

केवल राम ने कहा…

आपकी पूरी कविता जीवंत सच्चाई के बहुत करीब है ..पर आप कभी भी गुनहगार नहीं हो बस मददगार हो और ऐसे ही बने रहना ...शुक्रिया

केवल राम ने कहा…

मेरी जिंदगी में कांटे डाले सबने
मैंने फूलों की बहार दे डाली
इंसानों से प्रेम करने वाले हमेशा ऐसा ही करते आये हैं ...इतिहास उन्हें स्मरण करता है ..आप भी उस रह पर हो ...शुक्रिया

संध्या शर्मा ने कहा…

अरे ये क्या संजयजी, आपका तो ब्लॉग ही मुकुराहट बाटता है फिर इतनी मायूसी की बाते आप के ब्लॉग पर अच्छी नहीं लगती ... नहीं न, हौसला दीजिये हमें भी और खुद भी बढ़ते रहिये निरंतर और मुस्कुराते रहिये हमेशा हमेशा हमेशा ...........
पर आपकी कविता बहुत ही अच्छी है, सुंदर मन को छू लेने वाली .........

DR.ASHOK KUMAR ने कहा…

संजय जी आप बिल्कुल भी गुनहेगार नहीँ । किसने कह दिया आपसे ?

बहुत ही शानदार कविता है। लाजबाव भावोँ को कलमबद्ध किया है आपने ।

"गजल...........आईँ थी जब सामने मेरे तुम"

संजय भास्‍कर ने कहा…

@ उदय जी..
@ राहुल सिंह जी..
@ फ़िरदौस ख़ान जी..
@ सतीश सक्सेना जी..
@ मुकेश सिन्हा जी..
आप सबका बहुत बहुत शुक्रिया ...
यह सब आपकी शुभकामनाओं का ही परिणाम है
आप सभी का ह्र्दय से बहुत बहुत आभार ! इसी तरह समय समय पर हौसला अफज़ाई करते रहें ! धन्यवाद !

संजय भास्‍कर ने कहा…

@ निलेश माथुर जी..
@ बबन पाण्डेय जी..
@ मृत्युंजय कुमार रॉय जी..
@ सदा जी ..
@ अरुण रॉय जी..
आप सबका बहुत बहुत शुक्रिया ...
ब्लॉग को पढने और सराह कर उत्साहवर्धन के लिए शुक्रिया.

आपका अख्तर खान अकेला ने कहा…

snjay bhayi bhut bhtrin lekin bhaai ko yaad nhin krte iske to aap bhi or hm bhi donon hi gunaahgar hen lekin tobaa ab glti nhin hogi aapko dil men bsaa liyaa he . akhtar khan akela kota rajsthan

PRIYANKA RATHORE ने कहा…

nice...very nice....

मनोज कुमार ने कहा…

भावपूर्ण प्रस्तुति।

राज भाटिय़ा ने कहा…

इस बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये धन्यवाद

Rajesh Kumar 'Nachiketa' ने कहा…

इतिहास गवाह है साहब की लोगों ने अच्छा बनने की मोती कीमत चुकाई है.
अच्छा लगा.

Shekhar Suman ने कहा…

ओह...लगता है आने में देर हो गयी..
क्या करें तबियत थोड़ी ख़राब चल रही है..
बेहतरीन रचना.....

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

कुछ सवालों का कोई उत्तर नहीं होता...

संजय भास्‍कर ने कहा…

@ अरविन्द जांगिड जी..
@ तिलक राज कपूर जी..
@ जाकिर अली जी..
@ दीपक सैनी
@ संजय चोरासिया जी..
आप सभी का ह्र्दय से बहुत बहुत आभार ! इसी तरह समय समय पर हौसला अफज़ाई करते रहें ! धन्यवाद !

संजय भास्‍कर ने कहा…

@ कविता रावत जी..
सत्य कहा आपने सबको एक न एक दिन अनुभव होता ही है.
बहुत बहुत आभार आपका
@ सुमन जी..
@ आशा माँ
अब तबियत ठीक है
@ मार्क रॉय जी..
@ पी.सी.गोदियाल "परचेत" जी..
ब्लॉग को पढने और सराह कर उत्साहवर्धन के लिए शुक्रिया.

संजय भास्‍कर ने कहा…

@ प्रवीण पाण्डेय जी..
@ डॉ टी एस दराल जी..
@ सुशील बाकलीवाल जी.
@ कैलाश शर्मा जी..
@ ॐ जी..
धन्यवाद, मेरे ब्लॉग से जुड़ने के लिए और बहुमूल्य टिपण्णी देने के लिए

संजय भास्‍कर ने कहा…

@ समीर लाल जी
@ कुंवर कुसुमेश जी..
@ केवल राम जी..
@ संध्या जी..
@ डॉ अशोक जी..
आप सभी शुभकामनाये मेरे साथ है साथ आपका बहुत बहुत शुक्रिया मेरा होसला बढ़ाने के लिए

शिवा ने कहा…

मेरी जिंदगी में कांटे डाले सबने
मैंने फूलों की बहार दे डाली ,
बेहतरीन रचना....आपकी भावनाएं बहुत उत्तम है ..बनाये रखें.

ZEAL ने कहा…

बेहतरीन प्रस्तुति

ज्ञानचंद मर्मज्ञ ने कहा…

दूसरों के लिए अच्छा करने वाले को यह दुनिया हमेशा गुनाहगार ही मानती है ! दुनियाँ का यही दस्तूर है !
सुन्दर प्रस्तुति !
-ज्ञानचंद मर्मज्ञ

Minakshi Pant ने कहा…

कोंन कहता है कीससे कि भास्कर गुनाहगार है !
मैने तो सबसे सुना है कि भास्कर एक अच्छा इन्सान है !

बहुत सुन्दर कविता !
बधाई दोस्त !

pragya ने कहा…

दिल को छू लेने वाली प्रस्तुति...सच है, जो जितना अपने ग़मों को छुपाकर दूसरों का भला करता है दुनिया उसे उतना ही बड़ा गुनाहगार महसूस करने को विवश कर देती है....

vandan gupta ने कहा…

।जो कोई गुनाह नही करता वो ही सबसे बडा गुनहगार होता है………सामयिक प्रस्तुति।

Girish Billore Mukul ने कहा…

मेरी ज़िंदगी के बिलकुल पास की कविता निकली संजय
आभार

पी.एस .भाकुनी ने कहा…

मकर संक्राति ,तिल संक्रांत ,ओणम,घुगुतिया , बिहू ,लोहड़ी ,पोंगल एवं पतंग पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं........

rashmi ravija ने कहा…

जिंदगी की हर राह पर
क्या यही है कसूर मेरा ,
हाँ हाँ .......यही है कसूर मेरा
जो अपने दिल के गमो को छुपाता रहा हूँ मैं
ज़माने को हसाता रहा हूँ मैं,

बहुत ही भावपूर्ण कविता

rashmi ravija ने कहा…

जिंदगी की हर राह पर
क्या यही है कसूर मेरा ,
हाँ हाँ .......यही है कसूर मेरा
जो अपने दिल के गमो को छुपाता रहा हूँ मैं
ज़माने को हसाता रहा हूँ मैं,

बहुत ही भावपूर्ण कविता

Alokita Gupta ने कहा…

hmmmm rachna to achi hai par aapne sawal jo kiya uska jawab bhi milna chahiye na to aapka gunah ye hai ki aap gamo ko dil mein kyun chupate ho? bol kar man shant karlo hahahahaha

Unknown ने कहा…

दिल को छू लेने वाली प्रस्तुति.....सच है

Unknown ने कहा…

keep writing sanjay.....all the best

संजय भास्‍कर ने कहा…

@ अख्तर खान अकेला जी..
@ प्रियंका राठौर जी..
@ मनोज कुमार जी..
@ राज भाटिया जी..
@ राजेश कुमार जी..
आप सबका ह्रदय से आभारी हूँ , आपने मुझे प्रोत्साहित किया ...यूँ ही अपना मार्गदर्शन देते रहना ताकि और भी प्रगति कर पाऊं ....आप सबका धन्यवाद

संजय भास्‍कर ने कहा…

@ शेखर भाई
@ भारतीय नागरिक जी..
@ शिव जी..
@ दिव्या जी..
@ ज्ञानचंद मर्मज्ञ जी..
आप सबका ह्रदय से आभारी हूँ , आपने मुझे प्रोत्साहित किया

संजय भास्‍कर ने कहा…

@ मीनाक्षी पन्त जी..
@ प्रज्ञा जी..
@ वंदना जी..
@ गिरीश मुकुल जी..
@ P S भाकुनी जी..
आप सबका शुक्रिया जिन्होंने अपने
बेशकीमती विचारों की टिप्पणियां दी
और मेरा हौसला बढाया

नीरज गोस्वामी ने कहा…

एक पुरानी फिल्म का गीत याद आ गया..."बस यही अपराध मैं हर बार करता हूँ, आदमी हूँ आदमी से प्यार करता हूँ" ये अगर गुनाह है तो मेरी दुआ है के हर इंसान गुनाहगार बन जाए...जबरदस्त कविता है आपकी...बधाई स्वीकार करें...

नीरज

केवल राम ने कहा…

आपकी कविता दिल पर असर करने वाली है ...अच्छे इंसान को समझना मुश्किल होता है ....इसलिए लोग उसे गुनहगार कहने से भी नहीं कतराते ..भावपूर्ण कविता

palash ने कहा…

काश जहाँ मे हर कोई आप सा बने गुनहगार
तो शायद खाली हो जाये दुनिया भर के कारागार

महेन्‍द्र वर्मा ने कहा…

भास्कर जी,
इस कविता ने दिल और दिमाग, दोनों को प्रभावित किया।
भावमयी प्रस्तुति के लिए बधाई।

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

अपने दिल के गमो को छुपाता रहा हूँ मैं
ज़माने को हसाता रहा हूँ मैं,
और तन्हाई में आंसू बहाता रहा हूँ मैं
' भास्कर ' पूछता है क्या यही जिंदगी का दस्तूर है

प्रभावी रचना .....

डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali) ने कहा…

बहत ही भावपूर्ण व् सुंदर रचना..

deepti sharma ने कहा…

' भास्कर ' पूछता है क्या यही जिंदगी का दस्तूर है
कोई बता दे कसूर मे
किस बात का.................... गुनाहगार हूँ मैं !

bahut sunder sabd

Ravi Shankar ने कहा…

गुनाह तो बहुत बड़ा कर रहे हैं बन्धु आप पर इल्तिज़ा यही है कि इस गुनाह पर कभी शर्मिन्दा न होइयेगा। ऐसे गुनाहगारों कि फ़ेहरिश्त लम्बी जो जाये तो क्या कहने… :)

विष्णु बैरागी ने कहा…

कौन क्‍या करता/कहता है, इसकी चिन्‍ता किए बिना हम अपने स्‍वभावानुसार अपना काम करते रहें। हमारा नियन्‍त्रण केवल अपने आप तक सीमित है।

Chaitanyaa Sharma ने कहा…

सक्रांति ...लोहड़ी और पोंगल....हमारे प्यारे-प्यारे त्योंहारों की शुभकामनायें......

Arun sathi ने कहा…

मकरसंक्रांति की हार्दीक शुभकामनाए..

जी यही जिन्दगी का द्स्तुर है

नेकी कर दरीया मे डाल

संजय भास्‍कर ने कहा…

@ रश्मि रविजा जी..
@ अलोकिता जी..
@ प्रीती जी..
@ नीरज गोस्वामी जी..
@ केवल राम जी..
आप सबका ह्रदय से आभारी हूँ , आपने मुझे प्रोत्साहित किया.........सबका शुक्रिया

Dr Xitija Singh ने कहा…

संजय जी ... एक मिनट के लिए तो आपका कमेन्ट पढ़ कर मैं डर गयी थी ... की न जाने मैंने ऐसा क्या कह दिया आपसे ... फिर समझ आया की आप अपनी पोस्ट के बारे में लिख रहे हैं ... :) :) ... देरी से आने के लिए माफ़ी चाहूंगी ... और पोस्ट पढ़ कर ये ही कहूँगी की आप बिलकुल गुनेहगार नहीं हैं ... बहुत बढ़िया लिखा है आपने ... धन्यवाद

ashish ने कहा…

बेच कर खुशियाँ खरींदु आंख का पानी , हाथ खाली है मगर व्यापार करता हूँ , आदमी हूँ आदमी से प्यार करता हूँ .

मेरे भाव ने कहा…

जो अपने दिल के गमो को छुपाता रहा हूँ मैं
ज़माने को हसाता रहा हूँ मैं,
और तन्हाई में आंसू बहाता रहा हूँ मैं


bahut khoob. achchhai aur sachchhai ka vajood hamesha raha hai aur rahega.

Rewa Tibrewal ने कहा…

bahut khoob.....sacchi rachna...man kay gehrayion say likhi gayi

POOJA... ने कहा…

वाह भाई... बहुत प्यार से दर्द उकेर दिया आपने...
बहुत खूब...
चिंता मत करो... सब बढ़िया है...
मकर संक्रांति, लोहरी एवं पोंगल की हार्दिक शुभकामनाएं...

समयचक्र ने कहा…

बढ़िया प्रस्तुति. मकर संक्रांति पर्व पर हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई ....

Creative Manch ने कहा…

सुन्दर रचना
बधाई
आभार

मकर संक्रांति पर्व पर हार्दिक शुभकामनाएं

संध्या शर्मा ने कहा…

आपको भी मकर संक्रांति, लोहरी एवं पोंगल की हार्दिक शुभकामनाएं...

संजय भास्‍कर ने कहा…

@ अपर्णा पलाश जी..
@ महेंदर वर्मा जी..
@ मोनिका शर्मा जी..
@ महफूज़ अली जी..
बहुत दिनों बाद आना हुआ आपका
@ दीप्ती शर्मा जी..
आप सबका ह्रदय से आभारी हूँ , आपने मुझे प्रोत्साहित किया.........सबका शुक्रिया

संजय भास्‍कर ने कहा…

@ RAVI SHANKAR JI
@ विष्णु बैरागी जी..
@ चैतन्य शर्मा
@ अरूण साथी जी..
@ ASHISH JI..
आप सबका ह्रदय से आभारी हूँ , आपने मुझे प्रोत्साहित किया.........सबका शुक्रिया

उपेन्द्र नाथ ने कहा…

गहरे जज्बात के साथ बेहतरीन कविता...

Unknown ने कहा…

बहुत उम्दा लिखते हों संजय जी ,,,,,,,,,,शानदार

Unknown ने कहा…

बहुत उम्दा लिखते हों संजय जी ,,,,,,,,,,शानदार

Bharat Bhushan ने कहा…

बस यही अपराध तुम हर बार करते हो
आदमी हो आदमी से प्यार करते हो
:))

संजय भास्‍कर ने कहा…

@ क्षितिजा जी..
ब्लॉग पढने और ब्लॉग से जुड़ने के लिए आपका बहुत बहुत आभार !
@ मेरे भाव जी..
@ रेवा जी..
@ महेंदर मिश्र जी..
@ क्रिएटिव मंच
आप सबका ह्रदय से आभारी हूँ , आपने मुझे प्रोत्साहित किया.........सबका शुक्रिया
आपको और आपके परिवार को मकर संक्रांति के पर्व की ढेरों शुभकामनाएँ !

संजय भास्‍कर ने कहा…

@ पूजा
@ संध्या जी..
@ उपेंदर जी..
@ मनीष शुक्ल जी..
आप सभी का बहुत बहुत आभार
आपको और आपके परिवार को मकर संक्रांति के पर्व की ढेरों शुभकामनाएँ !

Archana writes ने कहा…

shandar rachana....

सूर्य गोयल ने कहा…

मेरी जिंदगी में कांटे डाले सबने
मैंने फूलों की बहार दे डाली
बहुत खूब दोस्त. अच्छी ओर मार्मिक रचना. बहुत बहुत बधाई.

ZEAL ने कहा…

.

@--और तन्हाई में आंसू बहाता रहा हूँ मैं ...

Be brave Sanjay ji !

.

वीरेंद्र सिंह ने कहा…

Are Sanjay ji ....aapne koi Gunah nahin kiya hai.

sab khush hai aapse ...Ok.

Rachna badiya hai.


Be happy.

'साहिल' ने कहा…

bahut khoob, sundar rachna.......

Kunwar Kusumesh ने कहा…

आपको भी मकर संक्रांति की हार्दिक बधाई.

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

सुन्दर रचना है ... जीवन का यही दस्तूर है !

Kunwar Kusumesh ने कहा…

खूब सेंचुरी मार रहे हैं आप.बधाई.
welldone.

पूनम श्रीवास्तव ने कहा…

sanjay ji
bahut hi behatreen avam yatharthata liye hue bahut hi bhavpurn prastuti.
अपने दिल के गमो को छुपाता रहा हूँ मैं
ज़माने को हसाता रहा हूँ मैं,
और तन्हाई में आंसू बहाता रहा हूँ मैं
' भास्कर ' पूछता है क्या यही जिंदगी का दस्तूर है
aapne bilkul sach likha hai aaj samay ki yahi maang hai ki aap yadi dil se kisi ka bhal bhi karenge to log yahi kahenge ,are ,apna jarur koi matlab hoga varna koun paraai aag me kudta hai.
khair logon ko kahne dijiye ,aapdil ke bahut achhe hain aap aise hi ke gunah karte rahen aur apni dil ki awaj ko sunte rahen .ham sabki shubh kamnaye aapke saath hain .
bahut hi man ki bhai aapi nishchhalta se bhari kavita.
poonam

अंजना ने कहा…

आपको भी मकर संक्रांति की हार्दिक बधाई|
शानदार कविता...

रचना दीक्षित ने कहा…

अच्छी अभिव्यक्ति, सुदर कोमल भावनाएं उतने ही कोमल अहसास हर पल बदलता है हमारा चेहरा भावनाओं के साथ. सराहनीय प्रस्तुति

meemaansha ने कहा…

क्या यही है कसूर मेरा ,
हाँ हाँ .......यही है कसूर मेरा
जो अपने दिल के गमो को छुपाता रहा हूँ मैं
ज़माने को हसाता रहा हूँ मैं,
और तन्हाई में आंसू बहाता रहा हूँ मैं
' भास्कर ' पूछता है क्या यही जिंदगी का दस्तूर है
कोई बता दे कसूर मे
किस बात का.................... गुनाहगार हूँ मैं
sach hai,....smthing pitching in & m wandering at all...

संजय भास्‍कर ने कहा…

@ भूषण जी..
@ अर्चना जी..
@ सूर्य गोयल जी..
@ दिव्या जी..
@ वीरेंदर चोहान जी..
आप सबका ह्रदय से आभारी हूँ , आपने मुझे प्रोत्साहित किया.........सबका शुक्रिया

संजय भास्‍कर ने कहा…

@ साहिल जी..
@ कुंवर कुसुमेश जी..
@ इन्देर्निल सैल जी..
@ पूनम जी..
@ अंजना जी..
@ रचना जी..
@ रश्मि सविता जी..
धन्यवाद, मेरे ब्लॉग से जुड़ने के लिए और बहुमूल्य टिपण्णी देने के लिए

दर्शन कौर धनोय ने कहा…

संजयजी ,आपकी कुछ कविताए पड़ी ,आप बहुत अच्छी कविता लिखते हे --मिलते हे ----

Anjana Dayal de Prewitt (Gudia) ने कहा…

हाँ हाँ .......यही है कसूर मेरा
जो अपने दिल के गमो को छुपाता रहा हूँ मैं
ज़माने को हसाता रहा हूँ मैं,
और तन्हाई में आंसू बहाता रहा हूँ मैं

apni udasi baant lijiye, aur phir muskura dijiye :-)

sunder rachna!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बहुत खूब ... संजय जी ,.... दिल के भावों को बहुत शशक्त बयान किया है आपने ...

दिगम्बर नासवा ने कहा…

देरी से आने की क्षमा संजय जी ... शहर से बाहर था ...

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

bahut achhi aur bhaavpurn rachna, badhai.