09 अगस्त 2010

करते है साक्षर ही अधिक भ्रूण हत्या ...............!

 देखा जो ज़माने का प्रचलन ,
तो हुआ व्यथित बहुत मेरा मन  |
तो किया इस पर गहन अध्यन ,
किया मैंने बहुत शोध  | 
हुआ मुझे  बहुत ही अफ़सोस ,
लगा हाथ मेरे , जब यह तथ्य |
हजम हुआ न मुझे ये कटु सत्य ,
करते साक्षर ही अधिक भ्रूण हत्या  |

....संजय भास्कर....

63 टिप्‍पणियां:

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

sach kaha aapne sajnajy ji ! jaise jaise shiksha aur vigyan me pragati hui hai bhroon hatya jaise jaghnya kritya me ijafa hua hai... kaash kuchh gyan humari padhi likhi peedhi ko mil paati

संजय कुमार चौरसिया ने कहा…

sach hai sanjayji

http://sanjaykuamr.blogspot.com/

डॉ टी एस दराल ने कहा…

भ्रूण हत्या ( एम् टी पी ) लीगल है भाई ।
है ना अजीब बात ।

Unknown ने कहा…

.....कटु सत्य

Unknown ने कहा…

हर बार की तरह शानदार प्रस्तुति

Unknown ने कहा…

...गजब का लिखा है

मनोज कुमार ने कहा…

यही तो विडंबना है।

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

यही तो मुश्किल है.

रामराम.

Amit Kumar Sendane ने कहा…

bahut sahi kaha.......
bhai jaldi theek ho jaao........

हास्यफुहार ने कहा…

अच्छी प्रस्तुति।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

यह तथ्य चिन्तनीय है।

राजभाषा हिंदी ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति।
राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

Ram Pal Singh ने कहा…

uttam lekh .

kshama ने कहा…

Zaroori nahi ki,sakshar log'sushikshit'hon! Jahan dilo dimaag me andher ho wo kewal rakshas kahlaye ja sakte hain! Badi sashakt rachana hai aapki!

anshumala ने कहा…

ji sakshar hi nahi samaj ke sabase padhe likhe tabaka es kam me sabase aage hai or usi ne isaki suruaat bhi ki thi .

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

अंगूठा टेक को समझाने की बजाये कई बार साक्षर को समझाना बहुत मुश्किल है.

संजय भास्‍कर ने कहा…

Aapne Bilkul Sahi Kaha Anamika ...di

बेनामी ने कहा…

bilkul sahi kaha hai aapne. pade likhe hi jayada bhrun hatya karte hai...

bahut hi sundar kavita hai...

Banned Area News: Parents who smoke around kids are 'child abusers,' says Brit doc

शरद कोकास ने कहा…

साक्षर तो ऐसे ऐसे काम करते है कि निरक्षरों को शर्म आ जाये

संजय भास्‍कर ने कहा…

Sharad ji aapne katu satya kaha hai.....

honesty project democracy ने कहा…

ऐसा करना अमानवीय है ,गर्भ निरोध के सुरक्षित साधनों को अपनाकर जनसंख्या पर नियंत्रण तो जरूर करना चाहिए .| जनसंख्या पर नियंत्रण जरूरी है ...

Mithilesh dubey ने कहा…

कटु सत्य

Dev K Jha ने कहा…

बहुत अच्छा लिखा है संजय भाई।
कटु सत्य है......
पढे लिखे समाज की असली परछाई.

सूफ़ी आशीष/ ਸੂਫ਼ੀ ਆਸ਼ੀਸ਼ ने कहा…

Dukhad!

Asha Lata Saxena ने कहा…

बहुत सही आकलन किया है |बधाई
आशा

कडुवासच ने कहा…

... behad pransanshneey post ... saarthak va bhaavpoorn abhivyakti ... superb !!!

ब्लॉ.ललित शर्मा ने कहा…

Nice post

Urmi ने कहा…

अद्भुत सुन्दर रचना लिखा है आपने! बेहतरीन प्रस्तुती!

बेनामी ने कहा…

शुक्र है खुदा का की आखिर आपने सचिन से सबंधित पोस्टो को आखिर खत्म किया | ये रचना बढ़िया है |

वीरेंद्र सिंह ने कहा…

Sanjay ji ..this is the bitter truth and the most cruel activity of our society. It must be stopped at any cost. Otherwise our future generation will suffer.

You have raised a genuine issue.

Congratulations Sanjay ji.. on this very important issue based post.

Shah Nawaz ने कहा…

बिलकुल सही कहा संजय..... भावपूर्ण रचना!

बेनामी ने कहा…

correct nad i support your issue

arvind ने कहा…

.....कटु सत्य

Unknown ने कहा…

Educated ..... is a confusing word..

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

साक्षरों से ऐसी उम्मीद नहीं की जाती ...ज्यादा दुःख होता है यह जान कर ..

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

sachchai se inkar nahin kiya ja sakata hai. adhk jankari adhik ghatak hoti hai.

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

sachchai se inkar nahin kiya ja sakata hai. adhk jankari adhik ghatak hoti hai.

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

sachchai se inkar nahin kiya ja sakata hai. adhk jankari adhik ghatak hoti hai.

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

sachchai se inkar nahin kiya ja sakata hai. adhk jankari adhik ghatak hoti hai.

हर्षिता ने कहा…

साक्षरों से ऐसी उम्मीद नहीं की जाती ...ज्यादा दुःख होता है यह जान कर।

रचना दीक्षित ने कहा…

कटु सत्य

चन्द्र कुमार सोनी ने कहा…

बुरा ना मानियेगा लेकिन मैं भ्रूण ह्त्या के पक्ष में हूँ.
धन्यवाद.
WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

Mahfooz Ali ने कहा…

हर बार की तरह शानदार प्रस्तुति.........

Unknown ने कहा…

आज की दुनिया का कटु शाश्वत वास्तविक सत्य ..

Unknown ने कहा…

पढे लिखे समाज की असली परछाई.

कटु सत्य है......

Unknown ने कहा…

...बेहतरीन प्रस्तुती!

Unknown ने कहा…

दुनिया का कटु शाश्वत वास्तविक सत्य ..
हर शब्‍द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

संजय भास्‍कर ने कहा…

धन्यवाद ,
Arun ji @ Sanjay bhai @ Dr.T S Dral @ Preeti ji @ Amit ji @ Manoj ji @ Tau ji @ Amit bhai @Hasyfuhar ji @ Parveen ji @Rajbhasha @ Ram Pal singh ji @

मैं आप सभी का का दिल से आभारी हूँ और आशा करता हूँ आप अपना आशीर्वाद बनाये रखेंगे.
इसी तरह समय समय पर हौसला अफज़ाई करते रहें !

धन्यवाद
संजय भास्कर

संजय भास्‍कर ने कहा…

Kshama ji Aaj Ka Innsan Rakshas Banta Ja Raha hai

स्वप्न मञ्जूषा ने कहा…

बिलकुल सही कहा संजय.....
भावपूर्ण रचना!

संजय भास्‍कर ने कहा…

शरद जी आज कल साक्षर ही निरक्षरों जैसे काम कर रहे है
honesty project डेमोक्रेसी सही कहा है आपने जनसंख्या पर नियंत्रण जरूरी है ...
देव जी बिलकुल कटु सत्य है......
पढे लिखे समाज की असली परछाई.

संजय भास्‍कर ने कहा…

धन्यवाद ,
Ashish ji @ Asha maa @ Uday ji @ Llit sharma ji @ Babli ji @ Imran Ansari ji @ Virender ji @ Shah Nawaj ji @ Rachna ji @ Arvind ji @ Rahul bhai @ Sangeet ji @ Rekha shrivastav ji @ Rachna ..didi @ Chander soni ji @ Mehfooz ali ji @ Karan @ Gorav @ Ada...diidi

मैं आप सभी का का दिल से आभारी हूँ और आशा करता हूँ आप अपना आशीर्वाद बनाये रखेंगे.
इसी तरह समय समय पर हौसला अफज़ाई करते रहें !

धन्यवाद
संजय भास्कर

मेरे भाव ने कहा…

bhurn hatya nahi sirf "Kanya bhurn hatya"......

shikha varshney ने कहा…

यही तो अफ़सोस है ..

Unknown ने कहा…

देव जी बिलकुल कटु सत्य है......
पढे लिखे समाज की असली परछाई.

Satish Saxena ने कहा…

बिलकुल ठीक कह रहे हो ...शुभकामनायें !

pragya ने कहा…

मैं ये नहीं समझ पाती कि एक छोटी सी, नन्ही सी जान जो दूसरों पर अपनी ज़िन्दगी के लिए आश्रित है को सिर्फ उसके लिंग के कारण मौत का फरमान सुनाने वाले ताउम्र आईना कैसे देखते होंगे..

मंजुला ने कहा…

bilkul sach.....yahi ho raha hai

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

sanjay ji,
sahi kaha aapne ki bhrun hatya saakshar hin jyada karte. ek baat aur main ismein kahungi ki saakshar ke sath hin shahron mein ye jyada hota. gaanw mein dahej ki samasya bhi nahi hai na itni jyada asurakshit hai stree jitna shahar mein. achha likha hai aapne, shubhkaamnaayen.

दिगम्बर नासवा ने कहा…

ये एक कटु सत्य है .... बहुत दुख होता है जान कर ....

Khare A ने कहा…

sahi va katu satye/

ye vidambna he

Unknown ने कहा…

अद्भुत सुन्दर रचना लिखा है आपने! बेहतरीन प्रस्तुती!

PRIYANKA RATHORE ने कहा…

very nice....