21 मई 2010

आपके इंतज़ार में...


बरसों बीत गए 
तुम्हारे  इंतज़ार में

आँखें तरस गए
तुम्हारी राह देखते हुएं

यादें ताज़ा
होती रही 
हरपल आपकी याद में

वादें सताने लगे
आपकी गैर मौजूदगी में

साँसे थमसी गयी
खबर आपकी ना आने में ...



Pravallika  जी जी की कलम से ये पंक्तिया आप तक 

पहुंचा रहे है 
  
प्रवाल्लिका जी को मेरी १०० वी  समर्थक  है जिन्होंने मुझे सैकड़े तक पहुचाया है बहुत बहुत आभार प्रवाल्लिका जी  इसी पर आप सभी आदरणीय सुधिपाठक महानुभावों  तक पेश है  प्रवाल्लिका जी की एक  सुंदर कविता............... 
आप अपनी अनमोल प्रतिक्रियाओं से  प्रोत्‍साहित कर हौसला बढाईयेगा



 

46 टिप्‍पणियां:

kunwarji's ने कहा…

samman dene ka ye tareeka bhi khoob raha....
kunwar ji,

kunwarji's ने कहा…

kavita vaastav me sundar hai....

kunwar ji,

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

साँसे थमसी गयी
खबर आपकी ना आने में ...

sunder rachna! sunder ehsaas ! vichoh se hi prem gehrata hai ! century ke liye badhai...

गिरीश बिल्लोरे मुकुल ने कहा…

बेहद खूबसूरत

तदात्मानं सृजाम्यहम् ने कहा…

5.21.2010
आपके इंतज़ार में...




बरसों बीत गए
तुम्हारे इंतज़ार में

आँखें तरस गए
तुम्हारी राह देखते हुएं

यादें ताज़ा होती रही
हरपल आपकी याद में

वादें सताने लगे
आपकी गैर मौजूदगी में

साँसे थमसी गयी
खबर आपकी ना आने में ...
पूरी पोस्ट पढ़नी पड़ी, एक सांस में ही पी गए। और क्या चाहिए..इस दीवानगी से ज्यादा।

अनाम ने कहा…

bahut khub pravallika ji...
bahut achha likh ahi aapne...
aur sanjay bhai century par badhai..........

Asha Lata Saxena ने कहा…

beautiful poem
asha

EKTA ने कहा…

ye pyar ka intezar cheez hi aisi hai...or ant me hota yehi hai
nice poem...

Unknown ने कहा…

Pravallika ji ko smmaan dene ke liye dhanyawaad

Unknown ने कहा…

दिल के सुंदर एहसास

Unknown ने कहा…

sunder rachna! century ke liye badhai...

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

बहुत बढ़िया कविता!
--
100 समर्थकों के लिए बधाई!
--
बौराए हैं बाज फिरंगी!
हँसी का टुकड़ा छीनने को,
लेकिन फिर भी इंद्रधनुष के सात रंग मुस्काए!

M VERMA ने कहा…

100 समर्थक
याने मील का पत्थर

divya naramada ने कहा…

काव्य जगत में स्वागत...झूठी प्रशंसा नहीं करूंगा...आपमें कविताई की क्षमता है पर अभी तराशना होगा. एक दोष बता दूँ कोई अन्य तो कहेगा नहीं. पहले एक संबोधन है फिर अकारण दूसरा. पूरी कविता में या तो आप लिखे या तुम.

डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali) ने कहा…

दिल के सुंदर एहसास

Udan Tashtari ने कहा…

बढ़िया रचना...

समर्थकों की दृष्टिकोण से शतक वीर होने की बधाई!!

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

bahut pyari rachna, man ke bhaawo ki sundar abhivyakti, bahut shubhkaamnayen.

Unknown ने कहा…

bahut hi sundarta se man ki chatpataahat vyakt ki hai.....

Tapashwani Kumar Anand ने कहा…

ab to 101 ho gaye bahut bahut badhai.

Unknown ने कहा…

बेहद प्यारी रचना, आपका और प्रवालिका का आभारी हूँ, एक अच्छी रचना से रूबरू करवाने के लिए।

कुछ गलतियाँ सुधार कर भेज रहा हूँ, जो शायद टाईपिंग के दौरान हो गई होंगी।


बरसों बीत गए
तुम्हारे इंतज़ार में

आँखें तरस गई
तुम्हारी राह देखते हुए

यादें ताज़ा होती रही
हर पल आपकी याद में

वादे सताने लगे
आपकी गैर मौजूदगी में

साँसे थम सी गई
खबर आपकी न आने में...

माधव( Madhav) ने कहा…

nice ghazal, close to heart

रविंद्र "रवी" ने कहा…

बहुत खूब संजय जी! आंखे तरस गई तुम्हारे इंतजार में!!!

रविंद्र "रवी" ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.
मनोज कुमार ने कहा…

बहुत बढ़िया कविता!

रविंद्र "रवी" ने कहा…

सौ समर्थक मिळणे कि बधी हो संजयजी!!!और हा ध्यान राहे हम भी एक है!

चन्द्र कुमार सोनी ने कहा…

अति-सुन्दर.
मुझे पसंद आई आपकी रचना.
धन्यवाद.
WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

Urmi ने कहा…

बहुत ख़ूबसूरत कविता है! बढ़िया लगा!

कडुवासच ने कहा…

...बहुत बहुत बधाई ... शतक बनाने वाले व बनाने मे सहयोग करने वाले को ....!!!

साँसे थमसी गयी
खबर आपकी ना आने में ...
.... अदभुत भाव ..... प्रसंशनीय !!!

हर्षिता ने कहा…

सुन्दर अभिव्यक्ति।

स्वप्न मञ्जूषा ने कहा…

साँसे थमसी गयी
खबर आपकी ना आने में ...
बेहद खूबसूरत...!!

Unknown ने कहा…

लाजवाब रचना ..........बहुत खूब

वाणी गीत ने कहा…

साँसे थम सी गयी आपके ना आने से ...
100 वें समर्थक की बधाई

Pravallika ने कहा…

Hello Sanjay ji,

first of all... i extend my sincere thanks for giving me such an honour... am thankful to you.

Congratulations for crossing your 100 followers...

I thank each one of you here for your valuable feedbacks.

Kulwant Happy ji, thanks for correcting my poem.

Acharya Sanjeev Varma ji, thank you soo much for the correction...and i shall certainly try to improvise and implement your feedback.

Thanks & Best Regards,
Pravallika
www.mypoetry4all.blogspot.com

पी.सी.गोदियाल "परचेत" ने कहा…

waah,

Vijay K Shrotryia ने कहा…

aapko century key liye badhai....

Unknown ने कहा…

achhi rachna

SANSKRITJAGAT ने कहा…

लाजबाब रचना ।

स्वप्निल तिवारी ने कहा…

mubarak baad sweekar karen...behtar rachnaon ke intezar rahega

दिगम्बर नासवा ने कहा…

साँसे थमसी गयी
खबर आपकी ना आने में ...

Bahut khoob ... kashish liye ..

Unknown ने कहा…

बेहद प्यारी रचना,

100 वें समर्थक की बधाई.

ajeet ने कहा…

बहुत बढ़िया कविता!
100 समर्थकों के लिए बधाई!

Unknown ने कहा…

साँसे थम सी गयी आपके ना आने से ...
100 वें समर्थक की बधाई

राज चौहान ने कहा…

bahut shubhkaamnayen..

Unknown ने कहा…

बहुत बहुत बधाई ... शतक बनाने वाले व बनाने मे सहयोग करने वाले को ....!!!

Saumya ने कहा…

nice poem....congratulations to u too!

Unknown ने कहा…

आपका और प्रवालिका का आभारी हूँ, एक अच्छी रचना से रूबरू करवाने के लिए।