12 मार्च 2010

तेरे लायक नहीं,जानता हूँ

 तेरे लायक नहीं, जानता हूँ

जो कभी नही हुआ
वो आज हो गया
जो मेरे पास था
वो दिल खो गया
तुम जानते हो या न नही, पता नहीं
पर जो खोया है मैंने
वो है तेरे पास कहीं
मिल जाये तो लौटा देना
तेरे लायक नहीं वो
 
जानता  हूँ
ले लूँगा, समझाकर रख लूँगा पास अपने ही 
जानता 


26 टिप्‍पणियां:

चण्डीदत्त शुक्ल ने कहा…

दिलचस्प अंदाज. अच्छा लिखा।

नीरज गोस्वामी ने कहा…

आपकी रचना से मुझे इज़ाज़त का गीत " मेरा कुछ सामान तुम्हारे पास पड़ा है..." याद आ गया... बहुत अच्छी रचना...

नीरज

Urmi ने कहा…

वाह बहुत ही सुन्दर अंदाज़ के साथ लिखी गयी इस ख़ूबसूरत रचना के लिए बधाई!

Amitraghat ने कहा…

शानदार...पर इस जनता की जगह जानता का यूज़ क्यों नहीं किया....
amitraghat.blogspot.com

अनाम ने कहा…

शुभकामनाएं

निर्मला कपिला ने कहा…

ारे क्यों खुद को अन्डर एस्टीमेट कर रहे हो? उसके लायक क्यों नही ? जिसे पहचान नही तुम्हारे दिल की उसे दिया ही क्यो? हा हा हा अच्छी लगी कविता। बधाई और आशीर्वाद्

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

baat ko kehne ka ye andaaz acchha laga. badhayi.

M VERMA ने कहा…

मत लौटाना
मेरे दोस्त का दिल
खो गया है तो क्या
दिल तभी दिल है जब खो जाये
वह वज़ूद ही क्या
जो किसी और का न हो जाये

Amit K Sagar ने कहा…

अच्छा लिखा है.
जारी रहें.

Roshani ने कहा…

its very emotional poem...
keep it up.

Roshani ने कहा…

very nice sanjay ji.

रानीविशाल ने कहा…

Aap chahe na batao Sanjay Ji ham to hamjh hi gae ...ki mamala kya hai pichale kuch dino se kya ho raha hai :)
Bahut acchi rachana..bhadiya andaaz!

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

भाई इब दे दिया तो वापस लेके क्या करना? दी हूई चीज वापस नही लिया करते. उसी के पास रहण दे...वो लऊताये तो भी मत लेना. कह देना कि एक बार दी हुई चीज वापस नही लेते. आगे तेरी मर्जी.:)

रामराम.

Anand ने कहा…

comment chat me dunga
gud..keep it up

दीपक 'मशाल' ने कहा…

Rachna to umda hai Sanjay lekin kya baat hai Hindustani ladkiyon ke baad Chinese par dil aa gaya??? tasveer se to yahi lagta hai.. Ha Ha Ha.. :)

Kajal Kumar's Cartoons काजल कुमार के कार्टून ने कहा…

भई आप लोग इतनी अच्छी अच्छी कविताएं कैसे लिख लेते हैं मुझे तो ईर्ष्या होने लगी है. :-) बहुत सुंदर. अभार.

हेमन्त कुमार ने कहा…

अंदाजे-बयां अच्छा है..!
आभार ।

रश्मि प्रभा... ने कहा…

waah, bahut hi achhi rachna

सूफ़ी आशीष/ ਸੂਫ਼ੀ ਆਸ਼ੀਸ਼ ने कहा…

अंडरएस्टीमेट ना करो भैय्या!
अजी मैंने कहा, हारिये ना हिम्मत बिसारिये ना राम!
www.myexperimentswithloveandlife.blogspot.com

EKTA ने कहा…

very nice poem...

चन्द्र कुमार सोनी ने कहा…

badhiyaa, i liked it.
thanks.
WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

रचना दीक्षित ने कहा…

sahi hai chalte raho

राज चौहान ने कहा…

दिल तभी दिल है जब खो जाये
वह वज़ूद ही क्या
जो किसी और का न हो जाये

राज चौहान ने कहा…

very nice sanjay ji.

Unknown ने कहा…

sundar rachanaa.

Unknown ने कहा…

very nice sanjay ji.