13 अक्तूबर 2010

.................क्या यही है मेरे देश का हाल ?

 क्या यही है मेरे देश का हाल |
धार्मिक कट्टरवाद अपना कर ,  नौजवानों  को मरवा दो 
भाई को भाई से लड़वाकर खून की नदियाँ बहा दो |
कुछ को मंदिर के नाम, कुछ को मस्जिद के नाम पर
अलग थलग कर दो |
लगता हा नेताओ ने बेरोजगारी दूर करने का 
यही उपाय सुझा है |
वे जनता से चाहते करवानी पूजा है 
लगता है वे बेरोजगारी जरूर हटायेंगे |
नौजवानों की शक्ति को भड़काकर महाभारत फिर दोहरायेंगे |
( चित्र - गूगल से साभार )

..........संजय कुमार भास्कर

87 टिप्‍पणियां:

वन्दना ने कहा…

बेहद सुन्दर संदेश देती बहुत ही सुन्दर रचना सोचने को मजबूर करती है।

सुरेन्द्र बहादुर सिंह " झंझट गोंडवी " ने कहा…

sahi baat hai kavita me

Saumya ने कहा…

bitter reality!!

Saumya ने कहा…

bitter reality!!

Shekhar Suman ने कहा…

bahut khub..
kaqiqat hai yeh....

अन्तर सोहिल ने कहा…

सच कहा जी

प्रणाम

ZEAL ने कहा…

.

..भाई को भाई से लड़वाकर खून की नदियाँ बहा दो |
कुछ को मंदिर के नाम, कुछ को मस्जिद के नाम पर ...

Truly sad !

.

DEEPAK BABA ने कहा…

सही फरमाया जी.....

DEEPAK BABA ने कहा…

सही फरमाया जी.....

यशवन्त ने कहा…

बहुत ही सही हाल बयां किया है...

Amit ने कहा…

लगता हा नेताओ ने बेरोजगारी दूर करने का
यही उपाय सुझा है |
.........सही फरमाया जी

Amit ने कहा…

......बहुत ही अच्छा लिखा है संजय जी..
बधाई

संजय कुमार चौरसिया ने कहा…

sach kaha ,

isse bhi bura haal hai desh ka

संजय भास्कर ने कहा…

@ वंदना जी..

@ सुरेन्द्र बहादुर सिंह " झंझट गोंडवी " जी..

@ Saumya ji..

@ शेखर सुमन जी..

@ अन्तर सोहिल जी..

@ ZEAL JI..

आज देश का यही हाल है
आप सभी सुधिजनों ( ब्लागरों ) को मेरी रचना सराहने और उत्साहवर्धन एवं शुभकामनाओं के लिए बहुत बहुत धन्यवाद.
आशा है आगे भी आपका स्नेह, सहयोग और मार्गदर्शन मिलता रहेगा.
सादर,
संजय भास्कर

mahendra verma ने कहा…

कड़ुवे यथार्थ को शब्दों में पिरोती एक प्रभावशानी रचना।

rashmi ravija ने कहा…

बहुत ही जोश भरी रचना है...और आक्रोश भरी भी
पर सच यही है...अच्छा लिखा है

संजय भास्कर ने कहा…

@ दीपक बाबा जी..

@ यशवंत जी..

@ अमित जी..

@ संजय कुमार चौरसिया जी..

ब्लॉग को पढने और सराह कर उत्साहवर्धन के लिए शुक्रिया.

honesty project democracy ने कहा…

सार्थक,सराहनीय और प्रेरक ब्लोगिंग के लिए आभार ....

माधव( Madhav) ने कहा…

सही फरमाया जी...

Archana ने कहा…

क्या नहीं ......हाँ, यही है मेरे देश का हाल ....

Kailash C Sharma ने कहा…

भाई को भाई से लड़वाकर खून की नदियाँ बहा दो |
कुछ को मंदिर के नाम, कुछ को मस्जिद के नाम पर
अलग थलग कर दो .....
आज की व्यवस्था पर बहुत सुन्दर कटाक्ष .....बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति..

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सुन्दर, सजीव, सुगढ़ कविता।

आशीष/ ਆਸ਼ੀਸ਼ / ASHISH ने कहा…

मुए नेता कहीं के!
आशीष

Asha ने कहा…

अच्छी प्रस्तुति के लिए बधाई |
आशा

संजय भास्कर ने कहा…

@ महेंदर वर्मा जी ..

@ रशमी रविजा जी..

@ जय कुमार झा जी..(honesty project democracy_
जय कुमार झा जी..

@ माधव

@ अर्चना जी..
ब्लॉग को पढने और सराह कर उत्साहवर्धन के लिए शुक्रिया.
आशा है आगे भी आपका स्नेह, सहयोग और मार्गदर्शन मिलता रहेगा.
सादर,
संजय भास्कर

संजय भास्कर ने कहा…

@ कैलाश शर्मा जी ..
आज देश का यही हाल है सहयोग और उत्साहवर्धन के लिए शुक्रिया.

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

raajneeti ka kaccha chittha.

Mahak ने कहा…

एकदम सही कहा आपने

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

Bilkul yahi haal.... aur janata...behal hai.... sunder prastuti

सतीश सक्सेना ने कहा…

बहुत खूब ! शुभकामनायें !

संजय भास्कर ने कहा…

धन्यवाद

@ प्रवीण पाण्डेय जी..

@ आशीष/ ਆਸ਼ੀਸ਼ / जी..

@ आशा जी..

मेरी हौसला अफज़ाई के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया.

संजय भास्कर ने कहा…

@ अनामिका जी..
सही सही फरमाया जी आपने राजनीति का कच्चा चिटठा

रानीविशाल ने कहा…

बहुत ही संवेदनशील मुद्दे पर एक बहुत ही सार्थक रचना ....बधाई
नवरात्रों की शुभकामनाए

तिलक राज कपूर ने कहा…

अरे भाई,जल्‍दी से जनता में जागरूकता लाओ। ये काम नये कंधे ही कर सकते हैं।

anshumala ने कहा…

आप सही कह रहे है ये बेरोजगारी तो नहीं मिटा सकते इसलिए बेरोजगारों को उलझाये रखते है ऐसे मुद्दों में , जैसे गरीबी मिटाते मिटाते ये गरोबो को मिटाने लगे |

वीना ने कहा…

सच में हकीकत यही है....बहुत अच्छा लिखा है...

ehsas ने कहा…

sahi kaha aapne. netaon ka yehi kaam hai.

अशोक जमनानी ने कहा…

bahut khoob

विवेक मिश्र ने कहा…

आपने कहा ......आपको फॉलो कर रहा हूँ
मगर मेरा ब्लाग अनंत अपार असीम आकाश (vivekmishra001.blogspot,com) है ना कि अनन्त आकाश /Anant Aakash

आपकी कविताये पसंद आयी

उस्ताद जी ने कहा…

2/10

वाह,,वाह पे न जाईये
बचकानी रचना है

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

बात तो सही है ।

Dr. Ashok palmist blog ने कहा…

सच्चाई कड़वी होती है संजय जी। बहुत ही खूबसूरत कविता हैँ। शानदार अभिव्यक्ति के लिए बहुत-बहुत आभार! -: VISIT MY BLOG :- मेरे ब्लोग पर पढ़िये इस बार........... जाने किस बात की सजा देती हो?.............गजल।

संजय भास्कर ने कहा…

@ महक जी..
@ डॉ. मोनिका शर्मा जी..
@ सतीश सक्सेना जी..
@ रानीविशाल ने जी..
धन्यवाद, मेरे ब्लॉग से जुड़ने के लिए और बहुमूल्य टिपण्णी देने के लिए
मेरी हौसला अफज़ाई के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया.

संजय भास्कर ने कहा…

धन्यवाद
@ तिलक राज कपूर जी..
बिलकुल सही कहा आपने
ये काम नये कंधे ही कर सकते हैं।

@ अंशुमाला जी ..
ये बेरोजगारी तो नहीं मिटा सकते इसलिए बेरोजगारों को उलझाये रखते है ऐसे मुद्दों में , जैसे गरीबी मिटाते मिटाते ये गरोबो को मिटाने लगे |बिलकुल सही कहा आपने

ब्लॉग को पढने और सराह कर उत्साहवर्धन के लिए शुक्रिया.
आशा है आगे भी आपका स्नेह, सहयोग और मार्गदर्शन मिलता रहेगा.
सादर,
संजय भास्कर

संजय भास्कर ने कहा…

@ वीणा जी..
@ एहसास जी..
@ अशोक जमनानी जी..
@ विवेक मिश्र जी..
@ उस्ताद जी..
आज देश का यही हाल है
आप सभी सुधिजनों ( ब्लागरों ) को मेरी रचना सराहने और उत्साहवर्धन एवं शुभकामनाओं के लिए बहुत बहुत धन्यवाद.
आशा है आगे भी आपका स्नेह, सहयोग और मार्गदर्शन मिलता रहेगा.
सादर,
संजय भास्कर

Bhushan ने कहा…

धर्म के नाम पर लोगों को लड़वाने और मूर्ख बनाने की प्रवृत्ति का सुंदर चित्रण आपने कर दिया है. बधाई और आभार.

Anand ने कहा…

bahut acha..achi kosis
aur ache kavya kausal ki aapse ummeed..

Akhtar Khan Akela ने कहा…

snjay bhayi sch to yhi he nojvanon ka yhi hal he lekin aek sch yeh bhi he ke timir men aek baaskr snjay bhaskr he n jo is adnere ko dur krne ki koshishon men jutaa he insha allah hmare snjay bhaskr saahb zrur zrur kaamyab honge or nojvanon ko shi disha milegi. akhtar khan akela khan kota rajsthan

प्रवीण त्रिवेदी ╬ PRAVEEN TRIVEDI ने कहा…

........आज देश का यही हाल है!
सामयिक !!

Udan Tashtari ने कहा…

बेवकूफ ही बना रहे हैं...

अजय कुमार झा ने कहा…

बहुत खूब बयां किया आपने देश के हालात को ...सुंदर और सरल मगर बहुत ही महत्वपूर्ण...

prasant pundir ने कहा…

photo aur kavita humara itihas aur vartman bayaan kar rahi hai,
good poem

Suman Anuragi ने कहा…

But we select our leader so how can u say politics responsible... we all responsible for this too...

Suman Anuragi ने कहा…

Its we, Who makes leaders

Suman Anuragi ने कहा…

Its we, Who makes leaders

निर्मला कपिला ने कहा…

बिलकुल सही कहा। आजकल समाज और व्यवस्था पर तीखी नज़र है तुम्हारी। आशीर्वाद।

minakshi pant ने कहा…

राजनीति मनष्य को कभी विकसित होते देख ही नहीं सकती क्युकी जितना मनुष्य विकसित होगा , उतना ही उसे गुलाम बनाना मुश्किल हो जायेगा उतना ही उसे सवतंत्र होने से रोकना मुश्किल हो जायेगा !

minakshi pant ने कहा…

सुंदर लेखन के लिए बधाई !

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

इस बार तो लोग झांसे में नहीं ही आए न

रचना दीक्षित ने कहा…

बहुत कुछ कह दिया आपने

सुज्ञ ने कहा…

हमेशा ही बहूत कुछ कह देते हो।

जबर्दस्त कटाक्ष!!

kshama ने कहा…

वे जनता से चाहते करवानी पूजा है
लगता है वे बेरोजगारी जरूर हटायेंगे |
नौजवानों की शक्ति को भड़काकर महाभारत फिर दोहरायेंगे |

Bahut khoob! Lekin kabhi,kabhi mahsoos hota hai,ki kyon log itnee asanee se bhadak jate hain? Kya har Hindustanee kee chamdee ke neeche,zara-sa khurcho to ek Hindu ya Musalmaan hee milta hai? Insaan nahee?

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

गहरा कटाक्ष।
................
वर्धा सम्मेलन: कुछ खट्टा, कुछ मीठा।
….अब आप अल्पना जी से विज्ञान समाचार सुनिए।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

ये महाभारत रुका ही कब था संजय जी .... राजनेता तो तब भी थे ... आज भी हैं ....

nilesh mathur ने कहा…

बहुत सुन्दर संजय जी !

Vijai Mathur ने कहा…

Sanjayji ,
yah vyangya nahi haqiqat hai.
man is a political being .arthat manushy janam se hi raajneetik prani hai .voh samajik prani to sanskaron se banta hai .darasal samasya janta dwara sahi nirnay na lena hai galat logon ko chunenge to vahi hoga jaisa aapne bataya hai .Atah aapki kavita ka nishkarsh janta ko kartavya bodh karana hai ki sahi logon ko chuney .

संजय भास्कर ने कहा…

@ आशा जोगलेकर जी..
@ अशोक जी..
@ भूषण जी..
@ आनंद जी..
@ अख्तर खान अकेला जी..
.....एकदम सही कहा आपने
@ प्रवीण त्रिवेदी ╬ PRAVEEN TRIVEDI जी..
@ समीर लाल जी..
ब्लॉग को पढने और सराह कर उत्साहवर्धन के लिए शुक्रिया.
आशा है आगे भी आपका स्नेह, सहयोग और मार्गदर्शन मिलता रहेगा.
सादर,
संजय भास्कर

संजय भास्कर ने कहा…

@ अजय कुमार झा जी..
धर्म के नाम पर लोगों को लड़वाने और मूर्ख बनाने की प्रवृत्ति का सुंदर चित्रण आपने कर दिया है.

@ Prasant Pundir ji..

@ Suman anuragi ji..
रोजगारी तो नहीं मिटा सकते गरीबी मिटाते मिटाते ये गरोबो को मिटाने लगे |
सादर,
संजय भास्कर

संजय भास्कर ने कहा…

@ निर्मला कपिला जी..
....बिलकुल सही कहा आपने

संजय भास्कर ने कहा…

@ मीनाक्षी पन्त जी..

@ काजल कुमार Kajal Kumar जी..

@ रचना दीक्षित जी..

@ सुज्ञ जी..

आप सभी का ह्र्दय से बहुत बहुत आभार ! इसी तरह समय समय पर हौसला अफज़ाई करते रहें ! धन्यवाद !

Dorothy ने कहा…

काफ़ी विचारोत्तेजक, सशक्त और सटीक चित्रण. सुंदर प्रस्तुति. आभार.
सादर
डोरोथी.

शरद कोकास ने कहा…

यह आम आदमी सही कहता है ।

चन्द्र कुमार सोनी ने कहा…

वैसे गलती आम जनता की भी हैं.
मारने वाले से ज्यादा गलती चुपचाप मार खाने वाले की होती हैं क्योंकि वो विरोध नहीं दर्ज कराता हैं. उसी तरह नेताओं से ज्यादा गलती जनता की हैं जो बार-बार बेवक़ूफ़ बन जाती हैं.
thanks.
WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

चैतन्य शर्मा ने कहा…

ekdam sahi Sanjay bhaiya...

M VERMA ने कहा…

जी हाँ यही है हाल हमारे देश का
बाँट कर और काट कर अपना उल्लू सीधा करना

Coral ने कहा…

bahut sahi bat kahi hai aapne

sada ने कहा…

बहुत ही सही कहा आपने, यही हाल चल रहा है ।

POOJA... ने कहा…

ekdam true...

रजनी मल्होत्रा नैय्यर ने कहा…

......बहुत ही अच्छा लिखा है संजय जी..
बधाई

संजय भास्कर ने कहा…

@ आदरणीय क्षमा जी..
लोगो की अपनी अपनी सोच है.
मार्गदर्शन के लिए बहुत बहुत धन्यवाद

संजय भास्कर ने कहा…

@ ज़ाकिर अली ‘रजनीश’जी..
@ दिगम्बर नासवा जी..
@ निलेश माथुर जी..
@ विजय माथुर जी..
बिलकुल सही कहा आपने सहमत हूँ |

@ डोरोथी.जी..
@ शरद कोकास जी..
@ चन्द्र कुमार सोनी जी..
@ चैतन्य शर्मा
@ Corol ji..
@ सदा जी..
@ एम वर्मा जी..
आप सभी सुधिजनों ( ब्लागरों ) को मेरी रचना सराहने और उत्साहवर्धन एवं शुभकामनाओं के लिए बहुत बहुत धन्यवाद.
आशा है आगे भी आपका स्नेह, सहयोग और मार्गदर्शन मिलता रहेगा.
सादर,
संजय भास्कर

विरेन्द्र सिंह चौहान ने कहा…

संजय जी आपको
दशहरा पर शुभकामनाएँ .......

ये जो अंतिम पंक्ति है ....एक सच्चाई है .
बढ़िया पोस्ट . आभार .

Vijai Mathur ने कहा…

Sanjay ji ,
Aapki apne blog per tipniyan padhi ,dhanyawad .
Aap sab ko bhi dushara mubarak ho ,hamsab ki taraf se .

parveen ने कहा…

सटीक चित्रण. सुंदर प्रस्तुति.

संजय भास्कर ने कहा…

@ विरेन्द्र सिंह चौहान जी
@ विजय माथुर जी..
@ Parveen ji..

आप सभी का ह्र्दय से बहुत बहुत आभार ! इसी तरह समय समय पर हौसला अफज़ाई करते रहें ! धन्यवाद !

आपको सभी को
दशहरा पर शुभकामनाएँ .......

संजय भास्कर

deepak saini ने कहा…

आज की सच्चाई है
बहुत बढिया

Poorviya ने कहा…

sabco maloom hai
isq masoom hai--