11 जुलाई 2017

...... यादें कभी नहीं मिटती :)


जब कभी कुछ ढूंढता हूँ
कुछ चीजे फुर्सत में
तो मिल जाती है अक्सर कुछ पुरानी चीजें
जिसे देख खो जाता हूँ पुरानी यादों में
कल ही अलमारी में मिली
कुछ पुरानी पर्चियां, दीदी की पुरानी चप्पल ,
पिता जी का मफलर और माँ की पुरानी शॉल
जिसे देख याद आ जाती है पुरानी यादें
सर्दी के दिनों में
माँ इसी शॉल में छिपा लेती थी
मुझे और दीदी को गर्माहट के लिए
और दीदी की वही पुरानी चप्पल है जिसे पहन
मै अक्सर
चला जाता था खेलने
दीदी की परेशान करने के लिए
चीजे चाहे ख़त्म हो जाये पर
पुरानी यादें जेहन से कभी नहीं मिटती
वो हमेशा जुड़ी रहती है
हमारी जिंदगी से .........!!


-- संजय भास्कर

20 जून 2017

..... बारिश की वह बूँद :)


बारिश की वह बूँद
जो मेरे कमरे की खिड़की के
शीशे पर
फिसल रही थी
जिसे मैं घंटो से निहार रहा था
उसे देख बस मन में
एक ही ख्याल आ रहा था
जो बूँद इस
शीशे को भीगा
रही है
वैसे ही काश
भीग जाए मेरा मन ....!!!

- संजय भास्कर

25 अप्रैल 2017

..... घर के बड़े बुजुर्ग :)


घर के बड़े बुजुर्ग
जो बाँटना चाहते है अपनी
उम्र का अनुभव
अपने बच्चो अपने पोते पोतियों के साथ
समझाना चाहते है उन्हें
दुनियादारी के तौर तरीके
पर आज की पीढ़ी नहीं लेना चाहती
उनके अनुभव व विचार
जो सिर्फ अपनी ही चलाना चाहते है
लेकिन हमारे पढ़े लिखे होने से दुनियादारी
नहीं चलती
अनुभव का होना बहुत
ज़रूरी है
जब तक बड़े बुजुर्ग रहते है हमारी दुनिया में
तब तक हम उनकी अहमियत
नहीं समझते
लेकिन जब वो चले जाते है इस दुनिया से
और तब कोई गलती हो जाती है
तब याद आता है
कि घर में कोई बड़ा बुजुर्ग होता तो
शायद ये न होता  !!


- संजय भास्कर