19 अगस्त 2010

.........वह तोड़ती पत्थर !

वह तोड़ती पत्थर  !
देखा उसे मैंने इलाहाबाद के पथ पर |
वह तोड़ती पत्थर |
कोई न छायादार पेड़ ,वह जिसके तले बैठी हुई स्वीकार ,
श्याम तन, भर बँधा यौवन' ,
नत नयन ,प्रिय कर्म-रत मन 
गुरु  हथौड़ा हाथ ,
करती बार बार प्रहार ,
सामने तरु मालिका अट्टालिका ,प्राकार  |
चढ़  रही थी धूप
गर्मियों के दिन 
दिवा का तमतमाता रूप |
उठी  झुलसाती हुई लू 
रुई ज्यो जलती हुई भू 
गर्द चिनगी छा गई 
प्रायः हुई दोपहर ;
वह तोड़ती पत्थर |
देखते देखा मुझे तो एक बार ,
उस भवन की और देखा छिन्नतार |
देख कर कोई नहीं |
देखा मुझे उस दृष्टि से 
जो मार खा रोई नहीं |
सजा सहज सितार ,
सुनी मैंने वह नहीं जो थी सुनी झंकार ,
एक क्षण के बाद वह कांपी सुघर ,
ढुलक माथे से गिरे सीकर ,
लीन होते कर्म में फिर ज्यो कहा-
 ..........  " मै तोड़ती पत्थर "

सूर्यकांत त्रिपाठी ' निराला ' जी के संकलन  "अनामिका " से ये कविता आप तक
 कुछ दिनों पहले  मैं अपने गाँव इलाहाबाद गया था गाँव में ही मझे इस  कविता को पढने का मौका मिला 
यह कविता उत्तर परदेश में नौवी  कक्षा के  बच्चो के अध्याय में पढाई जा रही है 
निराला जी की कविता मुझे बहुत ही पसंद आई तो सोचा क्यों आप सभी की पुरानी यादें ताजा कर दी जाये  इसीलिए मैंने इसे अपने ब्लॉग पर ले आया |

99 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

यह कविता बचपन से पढ़ते आये. हमारे भी कोर्स में थी. आज बहुत दिन बाद पढ़ी. बहुत आभार.

राजभाषा हिंदी ने कहा…

सुंदर प्रस्तुति!

हिन्दी हमारे देश और भाषा की प्रभावशाली विरासत है।

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

----------------------------------------
क्या कोई इस कविता में आए
"पत्थर" का अर्थ बता सकता है?

----------------------------------------

'उदय' ने कहा…

... प्रसंशनीय प्रस्तुति ... संजय जी एक रचना और ढूंढ कर पढवाओ ...

"...ऊंचाई छूने जिनके हाथ नहीं बढते
वे बौने कैसे ऊंचे हो सकते हैं
जिनके जीवन की चादर मैली रही सदा
वे दाग दूसरों के कैसे धो सकते हैं ..."

हास्यफुहार ने कहा…

बहुत अच्छा लगा।

ललित शर्मा-للت شرما ने कहा…

ये कविता तो हमने कोर्स में पढी थी आठवीं में।
तभी से पत्थर तोड़ रहे हैं।:)

ललित शर्मा-للت شرما ने कहा…

यह कविता सूर्यकांत त्रिपाठी निराला की कालजयी कविता है।

ललित शर्मा-للت شرما ने कहा…

कविता पढवाने के लिए आपको कोटिश बधाई

ललित शर्मा-للت شرما ने कहा…

लगता है वर्तमान में कोर्स से हटा दी गयी है।

संजय भास्कर ने कहा…

lalit ji vartman me bhi cource me hai..
ye kavita.......

संजय भास्कर ने कहा…

Sameer ji yaad gaye na bachpan ke din...

dhanywaad apna kimti samay blog par dene ke liye

ललित शर्मा-للت شرما ने कहा…

अच्छी पोस्ट

मैं परेशान हूँ--बोलो, बोलो, कौन है वो--टर्निंग पॉइंट--ब्लाग4वार्ता पर आपकी पोस्ट

उपन्यास लेखन और केश कर्तन साथ-साथ-मिलिए एक उपन्यासकार से

ललित शर्मा-للت شرما ने कहा…

बहुत बढिया-आभार

मैं परेशान हूँ--बोलो, बोलो, कौन है वो--टर्निंग पॉइंट--ब्लाग4वार्ता पर आपकी पोस्ट

उपन्यास लेखन और केश कर्तन साथ-साथ-मिलिए एक उपन्यासकार से

संजय भास्कर ने कहा…

ललित शर्मा जी
ब्लॉग को पढने और सराह कर उत्साहवर्धन के लिए शुक्रिया.

Rajendra Swarnkar ने कहा…

सूर्यकांत त्रिपाठी ' निराला ' जी की पावन स्मृतियों को प्रणाम !
संज़य भाई ,
साधुवाद के पात्र हैं आप जो हम सबकी प्रेरणास्रोत विभूति को स्मरण करने का अवस्र उप्लब्ध कराया …
मंगलकामनाएं …

Amit ने कहा…

सूर्यकांत त्रिपाठी ' निराला ' जी की पावन स्मृतियों को प्रणाम !

Amit ने कहा…

बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

GORAV ने कहा…

कविता पढवाने के लिए बधाई

GORAV ने कहा…

Nirala ji ki zaradast rachaa ko salaam.....

सतीश सक्सेना ने कहा…

बहुत दिन बाद पढ़ी यह कविता ...धन्यवाद भास्कर जी !

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

श्रम के सौन्दर्य को उद्घाटित करती यह निराला जी की प्रसिद्ध कविता है।

Babli ने कहा…

बहुत सुन्दर लगा निराला जी की कविता पढ़कर! बहुत बहुत धन्यवाद ! उम्दा प्रस्तुती!

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

इस कविता ने मुझे प्रेरित किया था, कविता लिखने को।

Vandana ! ! ! ने कहा…

स्कूल में एक बार मुझे वर्ग में प्रथम आने पर निराला जी के कविताओं का संग्रह मिला था पुरस्कार स्वरुप . उससे पहले यही कविता कोर्स में थी, तबसे निराला जी के लेखन से काफी प्रभावित हूँ. इतने दिनों बाद आपके ब्लॉग में उनकी रचना को पढ़कर सुखद अनुभूति हुई. धन्यवाद्.

Virendra Singh Chauhan ने कहा…

Is kavita ke baare men main itna hi kah sakta hun ki ise jitni baar padha utna hi aur padhne ke liye man karta hai.

Sanjay ji.... is kavita ko padhaane ke liye aapka dhanaybaad.

मेरे भाव ने कहा…

shram ko naman karti sunder kavita. badhai aapko ki chun chunkar moti jo la rahe hain sabke liye......

वन्दना ने कहा…

निराला जी की एक बेहतरीन कृति।

रानीविशाल ने कहा…

Niralaji ki is anupam kruti ko prastut kar...purani yaaden taza kar di aapane.
ise post karane hetu bahut bahut dhanywad aapko.

मंजुला ने कहा…

mere bhi couse book may thi ....bahut dino baad padi ...bahut aachi lagi...Nirala jee ko Naman.........

Poorviya ने कहा…

purani yaad taaza kar di

वाणी गीत ने कहा…

निराला जी की एक बेहतरीन कृति....
यहाँ भी पढ़ने के लिए आभार ..!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

वाह संजय जी ... मान मो लिए इस रचना ने ... हमारे कोर्स में भी थी यह कविता और तब भी उतना ही आनद देती थी जितना आज ... बहुत बहुत शुक्रिया इस रचना के लिए ...

कविता रावत ने कहा…

School mein padhi Nirala ji ke rachna aaj aapne padhyee bahut achha laga ... purani yaadion kee tahe khulane see lagti hai..
..aabhar

चन्द्र कुमार सोनी ने कहा…

ये कविता मैंने बचपन में पढ़ी थी.
आपने इस कविता के बहाने हमें हमारे बचपन, पुरानी क्लास, और पुराने साथियों की याद दिला दी हैं.
आमतौर पर कविता हमें (मुझे और मेरे अधिकाँश दोस्तों को) पसंद नहीं थी, लेकिन इस कविता में कुछ ऐसा आकर्षण था जो हमें ये कविता पसंद आई.
बाद की कक्षाओं में जब हमें कविताओं से बोरियत और चिढ़ होती थी, तो मैडम (हिन्दी के सर तो होते ही नहीं थे) हमें निराला जी का नाम लेकर कविता पढने को प्रेरित किया करती थी.
वो अलग बात हैं कि हमें इस कविता जैसा आकर्षण उनकी (निराला जी) अन्य कविताओं में नहीं लगा.
ये कविता उनकी (निराला जी) सर्वश्रेष्ठ रचनाओं में से एक हैं.
बहुत बढ़िया.
धन्यवाद.
WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

shikha varshney ने कहा…

हाँ हमें भी ये कोर्स में पढ़ी थी आज बहुत दिनों बाद पढ़ कर अच्छा लगा .आभार.

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

kavita ko padhwane ke iye dhanwayad.....

धर्म सिंह........;;;;;.. (इक अजनबी) ने कहा…

कविता पढवाने के लिए आपको बहुत बधाई ....
जब आप हमारा ब्लॉग भ्रमण किये थे तो अच्छा लगा और हम आप के ब्लॉग के जरिये आप तक पहुँच गए ...
अच्छा लगा नए ब्लोगर का उत्साह बर्धन करने के लिए सुक्रिया ...!

'अदा' ने कहा…

बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति..
ये कोर्स में पढ़ी थी..
पढ़ कर अच्छा लगा...
आभार...!

Mithilesh dubey ने कहा…

बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति..

आमीन ने कहा…

Nirala Ji Zindabaad

रचना दीक्षित ने कहा…

बहुत दिन बाद पढ़ी निराला जी की एक बेहतरीन कृति।...धन्यवाद

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

मेरी प्रिय कविता पढवाने के लिए आभार

दीपक 'मशाल' ने कहा…

वापस हाईस्कूल के समय में पहुंचा दिया भाई.. बहुत बहुत आभार..

Gourav Agrawal ने कहा…

स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं

महफूज़ अली ने कहा…

बहुत सुंदर भावाभिव्यक्ति.... .

sidheshwer ने कहा…

* निराला की इस बहुचर्चित / बहुपठित और बहुश्रुत कविता को यहाँ देखना - पढ़ना अच्छा लगा। यह भी अच्छा लगा कि बहुत से लोगों को याद है कि उन्होंने इस कविता को अपने स्कूली पाठ्यक्रम में पढ़ रखा है। नागार्जुन ने कोर्स में पढ़ी - पढ़ाई जाने वाली कविताओं को 'सुहागिन' कहा है।

* निराला की यह कविता तनिक पाठ्यान्तर के साथ देखकर कुछ अजीब - सा लगा है। निराला आधुनिक युग के कवि हैं और ऐसा नहीं है पुराने साहित्य की तरह उनकी रचनाओं / कविताओं के एकाधिक पाठ उपलब्ध हैं। हिन्दी ब्लाग की बनती हुई दुनिया प्रकारान्तर से साहित्य का दस्तावेजीकरण कर रही है और आज तथा आने वाले समय के लिए यह एक महत्वपूर्ण काम है। अत: रचना के मूल पाठ पर ध्यान देना बहुत आवश्यक है नहीं तो गलतियाँ अक्सर दुहराई जाती रहेंगीऔर एक समय वह भी आएगा जब गलत पाठ ही सही पाठ मान लिया जाएगा।

* निराला की कविताओं की प्रतिनिधि पुस्तक 'राग विराग' सहज ही उपलब्ध है तथा कुछ ब्लाग्स पर भी इस रचना का मूल पाठ उपलब्ध है। यहाँ प्रस्तुत पाठ पाठान्तर लिए हुए है जैसे:
- 'पर बंधा योवन' नहीं बल्कि 'भर बँधा
यौवन'
-'हथोड़ा' नहीं 'हथौड़ा'
- 'अत्त्लिका' नहीं 'अट्टालिका'
- 'दृष्टी' नही'दृष्टि'
- 'ष्ण' नहीं 'क्षण'.....

* साहित्य हमारे समाज की सांस्कृतिक धरोहर है।अत: उसके प्रस्तुतीकरण और उसे साझा करते समय सावधानी बहुत जरूरी है। हिन्दी ब्लाग्स पर तो यह और भी जरूरी है क्योंकि हम सब अपने - अपने स्तर पर दस्तावेजीकरण के काम में लगे हुए हैं। मित्रो ! यह टिप्पणी केवल इसलिए कि हम सब लिखने - पढ़ने के काम के प्रति और लिखे गए की तारीफ के लिए जल्दबाजी न करें।

* यह बात मैं इस उम्मीद के साथ कर रहा हूँ कि इस पोस्ट के लेखक और इस पर टिप्पणी करने वाले उत्साही साथी अन्यथा न लेंगे और हिन्दी साहित्य के दस्तावेजीकरण के काम के प्रति ( और) गंभीर व सचेत होंगे।

Archana ने कहा…

एक अच्छी कविता सबको याद दिलाने का शुक्रिया !!......मै सिद्धेश्वर जी की बात से पूरी तरह सहमत.......

संगीता पुरी ने कहा…

बहुत अच्‍छी रचना है ...

Sadhana Vaid ने कहा…

इतनी सशक्त और अनुपम रचना दोबारा पढने को मिल गयी आपके सौजन्य से इसके लिये आभारी हूँ ! निरालाजी तो स्वयम प्रखर सूर्य की तरह दैदीप्यमान थे ! उनकी रचना पर टिप्पणी करने का दुस्साहस मैं कैसे कर सकती हूँ ! रचना पढ़वाने के लिये धन्यवाद !

संजय कुमार चौरसिया ने कहा…

bahut achchha laga

शिशुपाल प्रजापति ने कहा…

कई बार पढ़ने की बाद भी इस कविता को दुबारा पढने का जी करता है.
कल मैं शिवपूजन सहाय जी को पढ़ रहा था उसने उन्होंने लिखा है कि निराला जी के अंतिम दिन काफी अभावों में गुज़रे.आधुनिक साहित्यकार तो बस पैसा कमाने की जुगत और पुरस्कार के पीछे पड़े रहते हैं. धन्य हैं निराला जी और उनका साहित्य. निराला जी का एक उपन्यास 'नई पौध' बहुत अच्छा है, राजकमल ने छापा है.

MUFLIS ने कहा…

Hindustaan ke mahaan saahitya ke is mahatvapoorn dastaavez, iss kaaljayi rachnaa ko hm sb tk pahunchaane ke liye aabhaar swikaareiN .

तिलक राज कपूर ने कहा…

मै बहुत लेट आया। लगभग सभी कुछ कहा जा चुका है। ये कविता कविता नहीं एक काव्‍य काल-खण्‍ड का दस्‍तावेज़ है। मेरे हमउम्र सभी ने ये उच्‍चतर माध्‍यमिक शिक्षा के हिन्‍दी विषय में इसे अवश्‍य ही पढ़ा है।

Mahabir ने कहा…

सूर्यकांत त्रिपाठी ' निराला ' जी की पावन स्मृतियों को प्रणाम

जेन्नी शबनम ने कहा…

is moolyawaan rachna ko baantne keliye aapka dhanyawaad.

संजय भास्कर ने कहा…

.मै सिद्धेश्वर जी की बात से पूरी तरह सहमत.....

संजय भास्कर ने कहा…

मेरी हौसला अफज़ाई के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया.

संजय कुमार
हरियाणा

रजनी नैय्यर मल्होत्रा ने कहा…

sanjay achha laga todti patthar padh kar , tumne fir wo class wo padhai yaad dila di .......sukriya bhai ...

Bhushan ने कहा…

बहुत दिन बाद पढ़ी निराला जी की एक बेहतरीन कृति।...धन्यवाद

arun c roy ने कहा…

सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला' जी की यह कविता ना केवल स्कूल के पाठ्यक्रम में है बल्कि हिंदी साहित्य के उच्चतर कक्षाओं में भी है और जब भी कक्षा के बाहर आम जीवन के .. आम आदमी के कविता की बात होती है तो यह कविता सबसे पहले कही जाती है.. यह कविता कई अर्थों और सन्दर्भों में कालजयी है क्योंकि करीब करीब इन्ही कविताओं से हिंदी कविता अपने आधुनिक काल में छंद से मुक्त होकर प्रवेश कर रही थी... संजय ने इस कविता को ब्लॉग पर प्रस्तुत कर पुरानी कविताओं के प्रति आसक्ति को फिर से जगा दिया है और मैं अभी अपने निजी पुस्तकालय से निकाल कर "राम की शक्ति पूजा" पढ़ रहा हूँ... संजय आपका बहुत बहुत आभार !

amit destiny! ने कहा…

jahan tak mujhe yaad hai maine ye kavita pehle kabhi nahi padhi,
mere course mein humesha se saamanya hindi rahi hai,aur yeh kavita vishish hindi ke paathya kram mein hogi........
khair thodi der se hi sahi par aachaa lagi.........

चैन सिंह शेखावत ने कहा…

श्रद्धेय निराला जी की पावन स्मृति ....यह कविता...आभार संजय जी.

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

सुंदर भावाभिव्यक्ति...

VK Shrotryia ने कहा…

Thanx for making me nostalgic about our hindi classes and discussion and my hindi teacher..... keep it up. Sanjay ji....

anjana ने कहा…

संजय जी,कविता पढवाने के लिए धन्यवाद |

ज्योति सिंह ने कहा…

लीन होते कर्म में फिर ज्यो कहा-
.......... " मै तोड़ती पत्थर "
nirala ji ki rachna hum tak pahunchane ke liye shukriyaan .

pragya ने कहा…

संजय जी, छोटी कक्षा में पढ़ी थी यह कविता...उस समय भी जब पढ़ाई की किताबें भयंकर रूप से बोर करती थीं निराला की कविताएँ थीं जिनसे हमें कोई शिकायत नहीं थीं....आज बहुत दिनों के बाद उनकी कोई कविता पढ़ने को मिली...नई-नई संवेदनाओं, भावों को सहज और आकर्षक रूप में कविता के रूप में ढालने में निराला का कोई जवाब नहीं...काश आज के दौर में भी हमें कोई निराला मिल पाता...उनकी कविताओं का मर्म हर बार नया और गहरे चोट करने वाला इसलिए होता था क्योंकि वे जो लिखते थे वही जीते भी थे..

RAJNISH PARIHAR ने कहा…

निराला जी की एक बेहतरीन कृति....

Pranjal ने कहा…

nirala ji.. kaljayee kritiyon ke behatareen rachanakar...
atisundar prastuti..
dhanyawad..

निर्मला कपिला ने कहा…

सूर्यकांत त्रिपाठी ' निराला ' जी की कलम को शत शत नमन। धन्यवाद इस इसे पढवाने के लिये। आशीर्वाद।

वाणी गीत ने कहा…

निरालाजी की श्रेष्ठ कविता पढवाने का आभार ..!

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

इस प्रकार की कालजयी रचनाएं हज़ार पढ़ी जाएं तो भी कम है. पढ़वाने के लिए आभार.

दिगम्बर नासवा ने कहा…

निराला जी की कालजयी कविता ..... पढ़वाने के लिए आभार ....

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

यह तो निराला जी की प्रसिध्द कविता है इसे फिरसे पढवाने का आभार ।

वीना ने कहा…

मेरे प्रिय कवि हैं मुझे यह कविता याद भी है...फिर भी घन्यवाद

Anand ने कहा…

nirala ji ka to mai fan hu..vo hai hi niraale. unki kavita kisi ka bhi man moh sakti hai....

Thanks sanjay

www.kavyalok.com

प्रवीण त्रिवेदी ╬ PRAVEEN TRIVEDI ने कहा…

बचपन से पढ़ते आये. हमारे भी कोर्स में थी. आज बहुत दिन बाद पढ़ी!
आभार!!!

सुमन'मीत' ने कहा…

bahut sundar..............padhvane ke liye shukriya..........

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

hamane bhi padha hai isako. kintu phir se padha to isake shabdon aur arthon ne kuchh aur aabhas diya. tab course ki tarah padha tha aur ab vo kavita jo yatharth se judi kahani kah rahi hai.

डा. अरुणा कपूर. ने कहा…

kavita bahut suMdar hai....prerana daayee aur satyataa ka prtinidhitva karati hai!....dhanyawaad!

परमजीत सिँह बाली ने कहा…

सुन्दर रचना प्रेषित की है। स्कूल की फाठय पुस्तक मे पढ़ी थी कभी।

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

Nirala jee, ko padhwane ke liye abhar!!

'अदा' ने कहा…

बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

minakshi pant ने कहा…

जिस जगह कोई नहीं पहुंच सकता वहां सिर्फ एक कवी पहुँचता है दोस्त कविता पड़ी जो एक गरीबी की कहानी सुना रहा था पड़ कर अच्छा भी लगा और उसकी म्हणत पर गर्व भी !

arvind ने कहा…

mahakavi nrala ki kaaljayee rachna padhvaane ke liye dhanyavaad...bahut badhiya prastuti.

POOJA... ने कहा…

bahut khoob... ye kavita maine apne papa se sunee thi... thank you for providing...

Ravindra Ravi ने कहा…

बहुत सुन्दर!!!

संजय भास्कर ने कहा…

आप सभी सुधिजनों ( ब्लागरों ) को मेरी रचना सराहने और उत्साहवर्धन एवं शुभकामनाओं के लिए बहुत बहुत धन्यवाद.
आशा है आगे भी आपका स्नेह, सहयोग और मार्गदर्शन मिलता रहेगा.
सादर,
संजय भास्कर

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

Bachpan men padhee yah kawita fir se padhwane ka aabhar.

Sonal ने कहा…

bahut hi badiya......

monali ने कहा…

Are wah... mujhe to class ki saari shararatein bhi yaad aa gayi... thnk u..

Bhushan ने कहा…

डॉ. इंद्रनाथ मदान इस कविता बहुत प्रेम से पढ़ाया करते थे. सब याद हो आया.

प्रकाश ⎝⎝पंकज⎠⎠ ने कहा…

निराला जी,
नमामि त्वम्

musafir ने कहा…

Nirala ji ki ek gahari abhivyakti
jisme unhone bahut manav man ki sthiti aur vyatha ko vyakt kiya hai.

thanx for sharing it

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

इस कविता की खूब व्याख्या की है बचपन में .....:))

दिगम्बर नासवा ने कहा…

निराला जी की अनुपम कृति ... मजा आ गया ...

vidhya ने कहा…

बहुत अच्छा लगा।

Reena Maurya ने कहा…

यह कविता बचपन से पढ़ते आये. हमारे भी कोर्स में थी. आज बहुत दिन बाद पढ़ी. बहुत आभार.