02 अगस्त 2010

सचिन के आलोचक जरा ध्यान दें

सचिन तेंदुलकर की महानता को नकारने वाले लोगों के लिए एक और पोस्ट। इस बारे में पहले ही दो पोस्ट डाल चुका हूं। इस बार सिर्फ आंकड़ों का आइना उठाकर लाया हूं। चलिए, अब आपको आंकड़ों की दुनिया में ले चलते हैं। शायद आंकड़ों की भाषा सचिन के आलोचकों को अच्छे से समझ में आ जाए। आलोचकों का कहना है कि सचिन ने कोई विश्वकप नहीं जिताया। हां, वे ठीक कहते हैं सचिन ने कभी विश्वकप नहीं जिताया। इसका मतलब यह नहीं कि सचिन ने इसके लिए प्रयास नहीं किया। इसलिए ही मैं उन्हें याद दिलाना चाहता हूं विश्वकप 2003 की। इस विश्वकप के फाइनल में भारत की हार हुई थी, आस्ट्रेलिया के हाथों। पता है क्यों? क्योंकि इस मैच में सचिन तेंदुलकर नहीं चले थे।
(श्री सुधीर जी, आपकी नजर में महान बल्लेबाज उस मैच में टीम की ओर से हाईएस्ट स्कोर करने के बाद भी जिता नहीं पाया था, जिसकी आप बार-बार दुहाई देते हैं।)
मैं आपको भारत का एक-एक मैच करके याद दिलाना चाहूंगा।

विश्वकप का मैच नंबर- सातवां
भारत का मैच- पहला
विरोधी टीम- नीदरलैंड
परिणाम- भारत की 68 रन से जीत
कुल स्कोर भारत- 204
सचिन का स्कोर- 52 रन, टीम में हाईएस्ट स्कोर
वीरेंद्र सहवाग- 8, सौरव गांगुली- 6
सार : पहले ही मैच में सचिन तेंदुलकर ने अर्धशतक जमाया, जबकि बाकी सब दिग्गज फ्लॉप रहे।
------------------------------
-------
विश्वकप का मैच नंबर- 11वां
भारत का मैच- दूसरा
विरोधी टीम- आस्ट्रेलिया
परिणाम- आस्ट्रेलिया 9 विकेट से जीता
कुल स्कोर भारत- 125
सचिन का स्कोर- 36 रन, टीम में हाईएस्ट स्कोर
वीरेंद्र सहवाग- 4, सौरव गांगुली- 9
सार : दूसरे मैच में इंडिया की ओर से केवल 125 रन बने, जिसमें हाईएस्ट सचिन के ही थे। बाकी दिग्गज फिर फ्लॉप रहे। सचिन नहीं चले तो मैच भी गया।
-------------------------------------
विश्वकप का मैच नंबर- 17वां
भारत का मैच- तीसरा
विरोधी टीम- जिम्बावे
परिणाम- भारत 83 रन से जीता
कुल स्कोर भारत- 255
सचिन का स्कोर- 81 रन, टीम में हाईएस्ट स्कोर
वीरेंद्र सहवाग- 36, सौरव गांगुली- 24
सार : तीसरे मैच में भी सचिन का स्कोर ही हाईएस्ट रहा, भारत जीता। सहवाग तीसरे मैच तक पचास का आंकड़ा भी छू नहीं पाया।
-------------------------------------
विश्वकप का मैच नंबर- 25वां
भारत का मैच- चौथा
विरोधी टीम- नाबिबिया
परिणाम- भारत 181 रन से जीता
कुल स्कोर भारत- 311
सचिन का स्कोर- 152 रन, टीम में हाईएस्ट स्कोर
सौरव गांगुली- 112, वीरेंद्र सहवाग- 24
सार : सचिन ने डेढ़ सौ से अधिक रन बनाए। इस बार भी सचिन ही हाईएस्ट स्कोरर। भारत जीता। हालांकि सौरव गांगुली की पारी भी काफी अच्छी थी। सहवाग चौथे मैच में भी फिर फेल।
-------------------------------------
विश्वकप का मैच नंबर- 30वां
भारत का मैच- पांचवां
विरोधी टीम- इंग्लैंड
परिणाम- भारत 82 रन से जीता
कुल स्कोर भारत- 250
सचिन का स्कोर- 50 रन,
राहुल द्रविड़- 62, वीरेंद्र सहवाग- 23
सार : पांचवें मैच में सचिन का पचासा। इस बार हाईएस्ट बनाए राहुल द्रविड़ ने। सहवाग पांचवें मैच तक भी पचासा नहीं मार पाया।
-------------------------------------
विश्वकप का मैच नंबर- 36वां
भारत का मैच- छठवां
विरोधी टीम- पाकिस्तान
परिणाम- भारत 6 विकेट से जीता
कुल स्कोर भारत- 276
सचिन का स्कोर- 98 रन, टीम में हाईएस्ट स्कोर
वीरेंद्र सहवाग- 21, सौरव गांगुली- 0
सार : पाकिस्तान के खिलाफ सचिन ने ही हाईएस्ट रन बनाए। शोएब अख्तर का बयान- "सचिन ने पहले 15 ओवरों में ही मैच हमसे छीन लिया था।"
-------------------------------------
विश्वकप का मैच नंबर- 44वां, सुपर सिक्स
भारत का मैच- सातवां
विरोधी टीम- कीनिया
परिणाम- भारत 6 विकेट से जीता
कुल स्कोर भारत- 226
सचिन का स्कोर- 5 रन
सौरव गांगुली- 112, टीम में हाईएस्ट, वीरेंद्र सहवाग- 3
सार : सचिन नहीं चले। सौरव गांगुली की शानदार पारी। यदि गांगुली भी नहीं चलते तो मैच में हार लगभग तय थी। वीरेंद्र सहवाग एक बार फिर नाकाम। अभी तक सहवाग का हाईएस्ट 36 रन।
-------------------------------------
विश्वकप का मैच नंबर- 46वां, सुपर सिक्स
भारत का मैच- आठवां
विरोधी टीम- श्री लंका
परिणाम- भारत 183 रन से जीता
कुल स्कोर भारत- 292
सचिन का स्कोर- 97 रन, टीम में हाईएस्ट
वीरेंद्र सहवाग- 66, सौरव गांगुली- 48
सार : श्री लंका के खिलाफ जीत। हाईएस्ट फिर से सचिन के नाम। सहवाग ने आठवें मैच में पचासा किया। बधाई।
-------------------------------------
विश्वकप का मैच नंबर- 49वां, सुपर सिक्स
भारत का मैच- नौवां
विरोधी टीम- न्यू जीलैंड
परिणाम- भारत 7 विकेट से जीता
कुल स्कोर भारत- 150
सचिन का स्कोर- 15 रन
मोहम्मद कैफ- 68, टीम में हाईएस्ट, वीरेंद्र सहवाग- 1
सार : भारत के सामने छोटा लक्ष्य। सचिन नहीं चले। वीरेंद्र सहवाग फ्लॉप। मोहम्मद कैफ की सधी पारी।
-------------------------------------
विश्वकप का मैच नंबर- दूसरा सेमीफाइनल
भारत का मैच- दसवां, सेमीफाइनल
विरोधी टीम- कीनिया
परिणाम- भारत 91 रन से जीता
कुल स्कोर भारत- 270
सचिन का स्कोर- 83 रन
सौरव गांगुली- 111, टीम में हाईएस्ट, वीरेंद्र सहवाग- 33
सार : सेमीफाइनल मैच में गांगुली और सचिन की बदौलत जीत। वीरेंद्र सहवाग का फ्लॉप शो जारी।
-------------------------------------
विश्वकप का मैच नंबर- फाइनल
भारत का मैच- अंतिम
विरोधी टीम- आस्ट्रेलिया
परिणाम- भारत 125 रन से हारा
कुल स्कोर भारत- 234
सचिन का स्कोर- 4 रन
वीरेंद्र सहवाग- 82, टीम में हाईएस्ट, राहुल द्रविड़- 47
सार : आलोचक कहते हैं सचिन के बिना भी टीम जीत जाती। फाइनल में सचिन नहीं चले तो भारत को शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा। वीरेंद्र सहवाग की सिरीज में दूसरी फिफ्टी।
-------------------------------------
इस रिकॉर्ड को देखने के बाद यह नहीं कहा जा सकता कि सचिन ने विश्वकप जिताने के लिए कोशिश नहीं की। उसने वही किया जो हर खिलाड़ी करना चाहता है। सचिन ने कभी खुद को भगवान नहीं कहा। वे कह भी चुके हैं कि वे भगवान नहीं हैं। जिस दिन भारत का मैच हो, उस दिन सरकारी और निजी ऑफिसेज में काम रुक जाता है, क्योंकि क्रिकेट अब यहां किसी धर्म से कम नहीं रहा। हर बच्चा बोलना बाद में सीखता है, गेंद और बल्ला पहले उठा लेता है। इसलिए ही उनके सामने एक उदाहरण रखा जाता है सचिन तेंदुलकर का, ताकि बच्चे सचिन की तरह सफलता की सीढ़ी चढ़ पाएं। लोगों को अँधेरे क्रिकेट मैचों में एक आशा कि किरण नजर आती थी, जिसे सचिन तेंदुलकर के नाम पर जाना जाता था। इसलिए उन्हें महान कहा जाता है। चूंकि, क्रिकेट केवल भारत में ही धर्म समान है, इसलिए सचिन को भगवान भी कह दिया गया।
टिप्पणियों का इंतज़ार रहेगा


-मलखान सिंह आमीन