09 फ़रवरी 2010

......क्यों है.. .......






सूख जाना ही है उसको इक रोज़,

तो पत्ता डाली पर पनपता क्यूँ है....

डरता है बदनामी से इस कदर,

तो यह दिल प्यार करता क्यूँ है... बिछड़ना है

तो दिल में प्यार पनपता क्यों है

मरना है तो इन्सान जन्म लेता क्यों है

सवालों के जवाब चाहिए