28 जनवरी 2010

फ्रेंड्स हैं, तो क्या गम है






फ्रेंड्स हैं, तो क्या गम है

हो सकता है तुम पैरेंट्स से हर बात शेयर न कर सको, ऐसे में फ्रेंड्स बहुत काम आते हैं। उनसे हर तरह की बात शेयर की जा सकती है। फिर करियर की प्लानिंग हो या स्कूल-कॉलेज की कोई समस्या-सब कुछ।
 इन दिनों थ्री इडियट का ऑल इज वेल सांग सुनना काफी अच्छा लग रहा है।
वह कहता है कि यह गाना हमारी सोच को रिफ्लैक्ट करता है। हालांकि वह यह भी कहता है कि गाना, तो गाना है।
लेकिन देखा जाए, तो वास्तव में ऐसा कम होता है। पढाई न करो, तो क्या ऑल इज वेल हो पाएगा? बिल्कुल नहीं। मा‌र्क्स जीरो मिलेंगे, टीचर की डांट और पैरेंट्स के एक्सपेक्टेशंसका कबाडा।
इसलिए टेंशन तो काफी होता है। लेकिन मैं किसी भी तरह के टेंशन को ज्यादा समय तक टिकने नहीं देता। मैं फ्रेंड्स के साथ हर चीज शेयर करता हूं और इससे मुझे काफी मदद मिलती है।