12 जनवरी 2010

खुद को हर मोड़ पर अकेला पाया



आपनी बेबसी पर आज मुझे रोना आया 
दुसरो को क्या मैंने अपनों को आजमाया
हर दोस्त की तन्हाई हमेशा  दूर की 
लेकिन खुद को हर मोड़ पर अकेला पाया !