22 अप्रैल 2010

ऐसे जल और घट रही है लकड़ी तो सास लेना भी होगा मुश्किल




हमारी आने वाली पीढि़या भी होली की मस्ती ले सकें, रंगों में सराबोर हो सकें और स्वच्छ वातावरण में होलिका जला सकें, इसके लिए हम सबको ही पहल करनी होगी। वातावरण को प्रदूषण मुक्त रखना है तो लकड़ी कम जलानी होगी। होलिका सजाने के लिए इस्तेमाल होने वाली लकड़ी की आपूर्ति या तो पेड़ काटकर की जाती है या फिर टाल से होती है।
ऐसे घट रही है लकड़ी
बड़े पैमाने पर पौधारोपण होने के बाद भी दस साल में वन आच्छादित या ट्री क्षेत्र में कोई बढ़ोत्तरी नहीं हुई है।
ऐसे बढ़ रहा है प्रदूषण
इन दोनों स्थानों पर ग्रीन बेल्ट नहीं है, जिस कारण यह असर पड़ रहा है। कमोवेश यही स्थिति पूरे शहर की है।
ये पड़ रहा है असर
सस्पेंडेड पार्टिकुलेट मैटर हवा में मौजूद वे तत्व हैं जो त्वचा से लेकर फेफड़े तक के लिए सबसे घातक हैं। हर माह शहर में टीबी व फेफड़ों के मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है। देश में हर साल 42 हजार लोगों की मौत इसी बीमारी से हो रही है।
आइए संकल्प लें.
स्वच्छ हवा में अगर हम सास नहीं ले पा रहे हैं तो इसके लिए कोई दूसरा नहीं काफी हद तक हम खुद जिम्मेदार हैं। कभी विकास के नाम पर तो कभी परंपराओं को निभाने के लिए प्रकृति की प्यारी वस्तु पेड़ों को काटते रहे हैं। होली के पर्व पर आइये हम सब मिलकर कम से कम एक पौधा रोपने का संकल्प लें और प्रण करें कि होली पर वृक्षों को नुकसान नहीं पहुंचाएंगे। धरती हरी भरी रहेगी तभी तो हमें स्वच्छ हवा मिलेगी।

20 अप्रैल 2010

जो आँखों में ही रहते है

 होंठो की जुबां ये आंसु कहते है ,
चुप रहते है मगर फिर भी बहते है
इन आंसुओ की किस्मत तो देखो
ये उन के लिए बहते है ,
जो आँखों में ही रहते है |

19 अप्रैल 2010

हिन्दुस्तान में मायका और पाकिस्तान में ससुराल


पाकिस्तान में ससुराल और हिन्दुस्तान में मायका 

शोएब मालिक का प्यार सानिया के लिए अभी तो बेहद ज्यादा है अब सानिया ने यो तो साबित कर ही दिया है ,,,की प्यार सच्चा हो और मुल्क की दीवार सामने हो तो कोई फरक नहीं पड़ता | फिल्म वीर ज़ारा की स्टोरी तो  सच हो गई  है फर्ख सिर्फ इतना ही है की फिल्म में लड़का हिन्दुस्तानी था और लड़की पाकिस्तानी ...पर रियल लाइफ में लड़की हिन्दुस्तानी है और लड़का पाकिस्तानी ....तो देखा आपने किस तरह से होता है रील लाइफ का रियल लाइफ पे असर ...

भारत पकिस्तान के रिश्तों में मजबूती हो, चैन और अमन के साथ सभी अपनी ज़िन्दगी को गुज़ारे .....    

 

17 अप्रैल 2010

दर्द जब कागज़ पर उतर आएगा


 दर्द जब कागज़ पर उतर आएगा
चेहरा तेरा लफ्जों में नज़र आएगा

अपने हाथों की लकीरों में न छुपाना मुझे
हाथ छूते हि तेरा चेहरा निखर आएगा

बदल गया है मौसम् महक सी आने लगी
मुझे लगता है जैसे तेरा शहर आएगा

तेरे पहलू में बैठूं तुझसे कोई बात करुँ
एक लम्हा ही सही पर ज़रूर आएगा

एक मुद्दत से आँखे बंद किए बैठा हूँ
कभी तो ख्वाब में मेरा हज़ूर आएगा 

दिगम्बर नासवा जी कलम से निकली एक दर्द भरी रचना