21 अक्तूबर 2009

क्या गुनाह किया

ज़माने ने रुलाया है हमको ,

एक अपने ने रुला दिया तो क्या गुनाह किया

Sanjay bhaskar Email:- sanjay.kumar940@gmail.com